Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

ॐ नमस्ते गणपतये ॥ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः । स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः । स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः । स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ हमारे यहां पर वैदिक ज्योतिष के आधार पर कुंडली , राज योग , वर्ष पत्रिका , वार्षिक कुंडली , शनि रिपोर्ट , राशिफल , प्रश्न पूछें , आर्थिक भविष्यफल , वैवाहिक रिपोर्ट , नाम परिवर्तन पर ज्योतिषीय सुझाव , करियर रिपोर्ट , वास्तु , महामृत्‍युंजय पूजा , शनि ग्रह शांति पूजा , शनि ग्रह शांति पूजा , केतु ग्रह शांति पूजा , कालसर्प दोष पूजा , नवग्रह पूजा , गुरु ग्रह शांति पूजा , शुक्र ग्रह शांति पूजा , सूर्य ग्रह शांति पूजा , पितृ दोष निवारण पूजा , चंद्र ग्रह शांति पूजा , सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ , प्रेत बाधा निवारण पूजा , गंडमूल दोष निवारण पूजा , बुध ग्रह शांति पूजा , मंगल दोष (मांगलिक दोष) निवारण पूजा , केमद्रुम दोष निवारण पूजा , सूर्य ग्रहण दोष निवारण पूजा , चंद्र ग्रहण दोष निवारण पूजा , महालक्ष्मी पूजा , शुभ लाभ पूजा , गृह-कलेश शांति पूजा , चांडाल दोष निवारण पूजा , नारायण बलि पूजन , अंगारक दोष निवारण पूजा , अष्‍ट लक्ष्‍मी पूजा , कष्ट निवारण पूजा , महा विष्णु पूजन , नाग दोष निवारण पूजा , सत्यनारायण पूजा , दुर्गा सप्तशती चंडी पाठ (एक दिन) जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे

Omasttro.in

Month: June 2022

गुप्त नवरात्रि 2022: सर्वार्थसिद्धि व ध्रुव समेत कई शुभ योगों में शुरू होगी आषाढ़ नवरात्रि, जानें शुभ मुहूर्त व महत्व

Gupt Navratri 2022 Date and Muhurat: गुप्त नवरात्रि के नौ दिन महाविद्याओं की खास साधना की जाती है। मान्यता है कि…

श्रीरुद्र संहिता 【प्रथम खण्ड】 सातवाँ अध्याय “विवादग्रस्त ब्रह्मा-विष्णु के मध्य अग्नि-स्तंभ का प्रकट होना”

ब्रह्माजी कहते हैं :– हे देवर्षि ! जब नारायण जल में शयन करने लगे, तब शिवजी की इच्छा से विष्णुजी की…

surya namaskar 22 जून को सूर्य करेंगे आर्द्रा नक्षत्र में प्रवेश, जानें इस नक्षत्र गोचर से जुड़ी बड़ी भविष्यवाणी !

वैदिक ज्योतिष में सूर्य को समस्त ग्रहों का राजा माना गया है। हिन्दू धार्मिक दृष्टि से भी सूर्य को एक…

अंतरिक्ष में होने वाली है रहस्यमई घटना: देश, दुनिया और आम जनजीवन में आएंगे बड़े बदलाव!

जून के महीने में एक अनोखी खगोलीय घटना होने जा रही है जिसमें 18 वर्षों के बाद बुध (Mercury), शुक्र…

रघुवंशम्

रघुवंशम् कालिदास द्वारा रचित संस्कृत महाकाव्य है। इस महाकाव्य में उन्नीस सर्गों में रघु के कुल में उत्पन्न २९ राजाओं का इक्कीस प्रकार के छन्दों का प्रयोग करते हुए…

Lawyer ज्योतिष टिप्स: ये योग बना सकता है आपको प्रसिद्ध वकील

LawyerLawyerLawyer ज्योतिषीय विश्लेषण के लिए हमारे शास्त्रों मे कई सूत्र दिए हैं। इन सूत्रों की जानकारी रखने वाले जानकार इस…

श्रीरुद्र संहिता ( प्रथम खण्ड ) छठा अध्याय “ब्रह्माजी द्वारा शिवतत्व का वर्णन”

  ब्रह्माजी ने कहा ;– हे नारद! तुम सदैव जगत के उपकार में लगे रहते हो। तुमने जगत के लोगों के…

श्रीरुद्र संहिता ( प्रथम खण्ड ) पाँचवा अध्याय “नारद जी का शिवतीर्थों में भ्रमण व ब्रह्माजी से प्रश्न”

सूत जी बोले ;– महर्षियो! भगवान श्रीहरि के अंतर्धान हो जाने पर मुनिश्रेष्ठ नारद शिवलिंगों का भक्तिपूर्वक दर्शन करने के लिए…

18 जून से मृत्यु पंचक: साल का पहला और आखिरी मृत्यु पंचक है घातक-भूल से भी न करें ये वर्जित कार्य!

मृत्यु पंचक एक ऐसा शब्द जिससे ज्योतिष की दुनिया में ज्यादा अनुकूल नहीं माना गया है और साथ ही लोग…

बुध-शुक्र का संगम: 18 जून से 2 जुलाई तक वृषभ में बुध-शुक्र की युति से इन राशियों की पलटेगी किस्मत।

वैदिक ज्योतिष में हर ग्रह का गोचर और वक्री समस्त जातकों के लिए जितना महत्वपूर्ण होता है, उतना ही ग्रहों…

Pitra Dosh: नौकरी में बार-बार आ रही हैं समस्‍याएं? कुंडली का ये दोष हो सकता है कारण! जानें उपाय

Career Problem Solution by Astrology: कुंडली के शुभ योग व्‍यक्ति को राजा जैसा जीवन देते हैं तो अशुभ योग उससे…

श्रीरुद्र संहिता 【प्रथम खण्ड】 चौथा अध्याय “नारद जी का भगवान विष्णु को शाप देना”

ऋषि बोले ;- हे सूत जी! रुद्रगणों के चले जाने पर नारद जी ने क्या किया और वे कहां गए? इस…

श्रीरुद्र संहिता 【प्रथम खण्ड】 तीसरा अध्याय “नारद जी का भगवान विष्णु से उनका रूप मांगना”

सूत जी बोले ;- महर्षियो! नारद जी के चले जाने पर शिवजी की इच्छा से विष्णु भगवान ने एक अद्भुत माया…

वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा होना चाहिए घर, जानिए मेन गेट से बेडरुम तक किस चीज के लिए कौन सी दिशा है सही

वास्तु शास्त्र वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में कौन सी दिशा में क्या होना चाहिए। इसका उल्लेख कई वास्तु ग्रंथों…

श्रीरुद्र संहिता 【प्रथम खण्ड】 दूसरा अध्याय “नारद जी की काम वासना”

सूत जी बोले :– हे ऋषियो! एक समय की बात है। ब्रह्मा पुत्र नारद जी हिमालय पर्वत की एक गुफा में…

श्रीरुद्र संहिता ( प्रथम खण्ड ) ( पहला अध्याय ) “ऋषिगणों की वार्ता”

जो विश्व की उत्पत्ति, स्थिति और लय आदि के एकमात्र कारण हैं, गिरिराजकुमारी उमा के पति हैं, जिनकी कीर्ति का…

सूर्य ग्रह करने जा रहे हैं मिथुन राशि में प्रवेश, इन राशियों के शुरू होंगे अच्छे दिन, हर कार्य में सफलता के योग

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रह 15 जून को मिथुन राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। सूर्य देव का…

10 जून या 11 जून कब रखे निर्जला एकादशी व्रत? जानिए सही तारीख और मुहूर्त

निर्जला एकादशी (Nirjala Ekadashi) व्रत ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी तिथि को रखा जाता है। हालांकि इस वर्ष निर्जला एकादशी व्रत की…

0