सादर नमन हम सभी जीवन में किसी न किसी समस्या से घिरे रहते हे और उससे छुटकारा पाना चाहते हे , जो देवि की भक्ति करते हे उनके लिए “श्री दुर्गासप्तशती “ एक वरदान हे परन्तु समय न होने क कारण हम पूर्ण सप्तशती का पाठ नही कर पाते हे और कष्टों में घीरे रहते हे , इसी को ध्यान में रखते हुए “श्री दुर्गा” को प्रसन्न करने व् अपने कष्टों से सफलता की और जाने क लिए “श्री सप्तश्लोकी दुर्गा” जो की 7 श्लोक का हे उस  का पाठ कर पूर्ण दुर्गा की असीम कृपा को पाए | 
 
 
।। अथ सप्तश्लोकी दुर्गा ।।
 
 
शिव उवाच – 
देवि त्वं भक्तसुलभे सर्वकार्यविधायिनी |
कलौ हि कार्यसिध्यर्थमुपायं ब्रूहि यत्नतः || 
शिव जी बोले – हे देवि ! तुम भक्तो के लिए सुलभ हो और समस्त कर्मो का विधान करने वाली हो | कलियुग में कामनाओं की सिद्धि – हेतु यदि कोई उपाय हो तो उसे अपनी वाणी द्वारा सम्यक – रूप से व्यक्त करो |
 
देव्युवाच –
शृणु देव प्रवक्ष्यामि कलौ सर्वेष्टसाधनम् ।
मया तवैव स्नेहेनाप्यम्बास्तुतिः प्रकाश्यते ।।
देवी ने कहा – हे देव ! आपका मेरे ऊपर बहुत स्नेह है । कालियुग में समस्त कामनाओ को सिद्ध करने वाला जो साधन है वह बताती हु , सुनो ! उसका नाम है ‘अम्बा स्तुति’ । 
 
ॐ अस्य श्रीदुर्गासप्तश्लोकी स्तोत्र मन्त्रस्य नारायण ऋषिः , अनुष्टुप् छन्दः , श्रीमहाकाली महालक्ष्मी महा सरस्वत्यो देवताः , श्रीदुर्गा प्रीत्यर्थं सप्तश्लोकी दुर्गा पाठे विनियोगः । 
ॐ इस दुर्गासप्तश्लोकी स्तोत्रमन्त्र के नारायण ऋषि है , अनुष्टुप छन्द है , श्रीमहाकाली , महालक्ष्मी ओर महासरस्वती देवता है , श्री दुर्गा की प्रसन्नता के लिए सप्तश्लोकी दुर्गापाठ में इसका विनियोग किया जाता है ।
 
ॐ ज्ञानिनामपि चेतांसि देवी भगवती हि सा ।
बलादाकृष्य मोहाय महामाया प्रयच्छति ।। १ ।।
वे भगवती महामाया देवी ज्ञानियों के भी चित्त को बलपूर्वक खीचकर मोह में डाल देती है ।। १ ।।
 
दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तोः ,
स्वस्थैः स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि ।
दारिद्र्यदुःखभयहारिणि का त्वदन्या ,
सर्वोपकारकरणाय सदार्द्रचित्ता ।। २ ।।
माँ दुर्गे ! आप स्मरण करने पर सब प्राणियों का भय हर लेती है , ओर स्वस्थ पुरुषों द्वारा चिंतन करने पर उन्हें परम कल्याणमयी बुद्धि प्रदान करती है । दुःख , दरिद्रता ओर भय हरने वाली देवि ! आपके सिवा दूसरी कौन है , जिसका चित्त सबका उपकार करने के लिए सदा ही दयार्द्र रहता हो ।। २ ।।
सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके ।
शरण्ये त्र्यम्बके गौरी नारायणि नमोस्तुते ।। ३ ।।
नारायणी ! तुम सब प्रकार का मंगल प्रदान करने वाली मंगलमयी हो । कल्याणदायिनी शिवा हो । सब पुरुषार्थो को सिद्ध करने वाली , शरणागतवत्सला , तीन नेत्रोंवाली एवं गौरी हो । तुम्हें नमस्कार है ।। ३ ।।
शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे ।
सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोस्तुते ।। ४ ।।
शरण मे आये हुए दीनो एवम पीड़ित की रक्षा में सलंग्न रहने वाली तथा सबकी पीड़ा दूर करने वाली नारायणी देवी ! तुम्हे नमस्कार है ।। ४ ।।
सर्वस्वरुपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते ।
भयेभ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवि नमोस्तुते ।। ५ ।।
सर्वस्वरूपा , सर्वेश्वरी तथा सब प्रकार की शक्तियों से सम्पन्न दिव्यरूपा दुर्गे देवि ! सब भयो से हमारी रक्षा करो ; तुम्हे नमस्कार है ।। ५ ।।
रोगानशेषानपहंसी तुष्टा ,
रुष्टा तु कामान् सकलानभीष्टान् ।
त्वामाश्रितानां न विपन्न राणांं ,
त्वामाश्रिता ह्याश्रयतां प्रयान्ति ।। ६ ।।
देवि ! तुम प्रसन्न होने पर सब रोगों को नष्ट कर देती हो और कुपित होने पर मनोवांछित सभी कामनाओं का नाश कर देती हो । जो लोग तुम्हारी शरण में जा चुके है , उन पर विपत्ति तो आती ही नही । तुम्हारी शरण मे गए हुए मनुष्य दुसरो को शरण देने वाले हो जाते है ।। ६ ।।
सर्वाबाधाप्रशमनं त्रैलोक्यस्याखिलेश्वरि ।
एवमेव त्वया कार्यमस्मद्वैरीविनाशनम् ।। ७ ।।
सर्वेश्वरि ! तुम इसी प्रकार तीनो लोको की समस्त बाधाओ को शान्त करो और हमारे शत्रुओ का नाश करती रहो ।। ७ ।।
।। इति श्रीसप्तश्लोकी दुर्गा ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी। 
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते।।
 
ॐ एस्ट्रो के सभी पाठको को
शारदीय नवरात्रि और विजयादशमी
की हार्दिक शुभकामनाये ||

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

 

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी। 
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते।।
 
ॐ एस्ट्रो के सभी पाठको को शारदीय नवरात्रि और विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाये ||
%d bloggers like this: