Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

January 28, 2023 04:14

Category: श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( छब्बीसवां अध्याय ) दक्ष का भगवान शिव को शाप देना 

दक्ष का भगवान शिव को शाप देना      ब्रह्माजी बोले-हे नारद! पूर्वकाल में समस्त महात्मा और ऋषि प्रयाग में इकठ्ठा…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( पच्चीसवां अध्याय ) श्रीराम का सती के संदेह को दूर करना 

श्रीराम का सती के संदेह को दूर करना           श्रीराम बोले-हे देवी सती! प्राचीनकाल की बात हैं…

रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( चौबीसवां अध्याय ) शिव से आज्ञा से सती द्वारा श्रीराम की परीक्षा 

शिव से आज्ञा से सती द्वारा श्रीराम की परीक्षा           नारद जी बोले-हे ब्रह्मण! हे महाप्रज्ञ! हे…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खण्ड  ( तेइसवां अध्याय ) शिव द्वारा ज्ञान और मोक्ष का वर्णन 

  शिव द्वारा ज्ञान और मोक्ष का वर्णन           ब्रह्माजी बोले-हें महर्षि नारद! भगवान शिव और सती…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खण्ड  ( बाईसवां अध्याय ) शिव-सती का हिमालय गमन 

शिव-सती का हिमालय गमन             कैलाश पर्वत पर श्रीशिव और दक्ष कन्या सती के विविध विहारो का विस्तार…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खण्ड ( इक्कीसवां अध्याय )  शिव-सती विहार 

  शिव-सती विहार      नारद जी ने पूछा-हें पितामह ब्रह्माजी! शिवजी के विवाह के पश्चात सभी पधारे देवी-देवताओं और…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( बीसवां अध्याय )  शिव-सती का विदा होकर कैलाश जाना 

शिव-सती का विदा होकर कैलाश जाना           ब्रह्माजी बोले-हें महामुनि नारद! मुझे मेरा मनोवांछित वरदान देने के…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( उन्नीसवां अध्याय )  ब्रह्मा और विष्णु द्वारा शिव की स्तुति करना 

ब्रह्मा और विष्णु द्वारा शिव की स्तुति करना         ब्रह्माजी कहते हैं-नारद! कन्यादान करके दक्ष ने भगवान शिव…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( अठारहवां अध्याय ) शिव और सती का विवाह

शिव और सती का विवाह   ब्रह्माजी बोले-नारद! जब मैं कैलाश पर्वत पर भगवान शिव को प्रजापति दक्ष की स्वीकृति…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( सत्रहवां अध्याय ) सती को शिव से वर की प्राप्ति 

सती को शिव से वर की प्राप्ति         ब्रह्माजी कहते हैं-हें नारद! सती ने अश्विनी मास के शुक्ल…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( सोलहवां अध्याय ) रुद्रदेव का सती से विवाह 

रुद्रदेव का सती से विवाह         ब्रह्माजी बोले-श्रीविष्णु सहित अनेक देवी-देवताओं और ऋषि-मुनियों द्वारा की गई स्तुति सुनकर…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( पंद्रहवां अध्याय )  सती की तपस्या 

सती की तपस्या         ब्रह्माजी बोले-हें नारद! एक दिन मैं तुम्हे लेकर प्रजापति दक्ष के घर पहुंचा |…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( चौदहवां अध्याय ) दक्ष की साठ कन्याओं का विवाह 

  दक्ष की साठ कन्याओं का विवाह         ब्रह्माजी बोले-हें मुनिराज! दक्ष के इस रूप को जानकर मैं…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( तेरहवां अध्याय ) दक्ष द्वारा मैथुनी सृष्टि का आरम्भ 

दक्ष द्वारा मैथुनी सृष्टि का आरम्भ         ब्रह्माजी कहते हैं-हें नारद! प्रजापति दक्ष देवी का वरदान पाकर अपने…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( बारहवां अध्याय )  दक्ष की तपस्या 

         नारद जी ने पूछा-हें ब्रह्माजी! उत्तम व्रत का पालन करने वाले प्रजापति दक्ष ने तपस्या करके…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( ग्यारहवां अध्याय )  ब्रह्माजी की काली देवी से प्रार्थना 

ब्रह्माजी की काली देवी से प्रार्थना         नारद जी बोले-पूज्य पिताजी! विष्णुजी के वह से चले जाने पर क्या…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( दसवां अध्याय ) ब्रह्मा-विष्णु संवाद 

ब्रह्मा-विष्णु संवाद           ब्रह्माजी बोले-नारद! काम के चले जाने पर श्री महादेव जी को मोहित कराने का…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( नवां अध्याय ) ब्रह्मा का शिव विवाह हेतु प्रयत्न 

ब्रह्मा का शिव विवाह हेतु प्रयत्न         ब्रह्माजी बोले-काम ने प्राणियों को मोहित करने वाला अपना प्रभाव फैलाया…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड  ( आठवां अध्याय ) काम की हार 

काम की हार           सूत जी बोले-हें ऋषियों! जब इस प्रकार प्रजापति ब्रह्माजी ने कहा, तब उनके…

शिव पुराण  श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड (  सातवां अध्याय ) संध्या की आत्माहुति     

संध्या की आत्माहुति             ब्रह्माजी कहते हें-नारद! जब भगवान शिव देवी संध्या को वरदान देकर वह…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( छठा अध्याय )संध्या की तपस्या

ब्रह्माजी बोले-हें महाप्रज्ञ नारद! तपस्या की विधि बताकर जब वशिष्ठ जी चले गए, तब संध्या आसन लगाकर कठोर तप शुरू…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( पांचवां अध्याय ) संध्या का चरित्र

संध्या का चरित्र . सूत जी बोले-हें ऋषियों! नारद जी के इस प्रकार प्रश्न करने पर ब्रह्माजी ने कहा-मुने! संध्या…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( चौथा अध्याय ) काम-रति विवाह

काम-रति विवाह   नारद जी ने पूछा-हें ब्रह्माजी! इसके पश्चात क्या हुआ ? आप मुझे इससे आगे की कथा भी…

श्री रूद्र सहिता द्वितीय खंड ( तीसरा अध्याय ) कामदेव को ब्रह्माजी द्वारा शाप देना

  कामदेव को ब्रह्माजी द्वारा शाप देना      ब्रह्माजी ने कहा-हें नारद! सभी ऋषि-मुनि उस पुरुष के लिए उचित नाम…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( दूसरा अध्याय ) शिव-पार्वती चरित्र

शिव-पार्वती चरित्र सूत जी बोले-हें ऋषियों! ब्रह्माजी के ये वचन सुनकर नारद जी पुनः पूछने लगे | हें ब्रह्माजी! मैं…

श्री रूद्र संहिता द्वितीय खंड ( पहला अध्याय ) सती चरित्र

सती चरित्र नारद जी ने पूछा-हें ब्रह्माजी! आपके श्रीमुख से मंगलकारी व अमृतमयी शिव कथा सुनकर मुझमें उनके विषय में…

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

आपका हार्दिक स्वागत करता है ,

ॐ एस्ट्रो से अभी जुड़े 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.