Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

February 7, 2023 21:07
Omasttro

मुख्य बातें

पति पत्नी में मन मुटाव की वजह है ग्रहदोष
मंगल को कलह का कारक माना जाता है
मांगलिक दोष होने पर आपस में बढ़ता है कलह
Couple Fight : अक्सर आपने देखा सुना होता पति पत्नी में सम्बन्ध विच्छेद हो जाता है। घर में दोनों के मध्य लड़ाई कलह बनी रहती है, मधुरता खत्म होने लगती है। एक-दूसरे का कुछ भी कहा गया कड़वा लगता है तो ऐसी स्थितियां कुंडली में पड़े निर्बल ग्रहों की वजह से उत्पन्न होती है। जिनको हम अक्सर अनदेखा किये रहते है। पति-पत्नि के बीच मनमुटाव होने का सबसे बडा कारक चंद्रमा होता है। जब यह निर्बल स्थिति या दूसरे भावों में विराजित होता है तब ये खामियां उत्पन्न होती हैं। इस कमजोर ग्रह के प्रभाव से आप बचना चाहते है और आप भी इससे पीड़ित हो तो करें यह उपाय आपको इससे जरूर लाभ होगा।

चंद्र ग्रह है कलह का जिम्मेदार
ज्यादातर लोग मंगल को कलह का कारक मानते है, क्योंकि यह तेज ग्रह माना जाता है। आपकी कुंडली में मांगलिक दोष होने पर भी पति-पत्नि के बीच में कलह का कारण मानते है। लेकिन पति-पत्नि के संबंधो के बीच कलह उत्पन्न करने का अधिकाधिक योगदान चंद्र ग्रह का भी होता है।

चंद्र ग्रह के साथ ही शुक्र ग्रह भी मचा सकता है वैवाहिक जीवन में हलचल

अगर कुंडली में चंद्रमा की स्थिति कमजोर हो और इसके साथ ही शुक्र ग्रह भी कमजोर हो रहा हो तो यह वैवाहिक जीवन में कलह या अनचाही हलचल का कारण बनता है।
चंद्रमा जब भी कलह का कारण बनता है तो जीवनसाथी में शक और भ्रम की भावना पैदा करता है और अनावश्यक रूप से झगड़ा करवाता है जिसका कोई भी मुख्य विशेष कारण नहीं होता।
चंद्रमा यदि अधिक पीड़ित हो तो कई बार अलगाव के योग और परिवार के सुख से वंचित कर मानसिक शान्ति को भंग कर देता है, जिससे कई बार लोग आत्महत्या जैसे विचार करने लगते है।
वैवाहिक सुख को देखने के लिए सबसे पहले चंद्रमा पर विचार जरूर करना चाहिए। चंद्रमा कुटुंब भाव का नैसर्गिक कारक है और मानसिक शान्ति को दर्शाता है। मंगल अचानक से क्रोध देता है किन्तु चंद्रमा से मिला कलह लंबे समय तक पीड़ा देता है और अंदर-अंदर ही डिप्रेशन देता है।

चन्द्र ग्रह के दोष को खत्म करने के उपाय

इससे बचने के लिए सबसे पहले अपने चंद्रमा (मन) को मजबूत करना परम आवश्यक होता है। साथ ही कुंडली में चंद्रमा की स्थिति के अनुसार उपाय करने से उसके द्वारा मिल रही पीड़ा में कुछ हद तक आपसी सामंजस्य स्थापित किया जा सकता है। आए दिन के सम्बंध-विच्छेदों लड़ाई-झगड़ों को कम किया जा सकता है। तब व्यक्ति अपने वैवाहिक जीवन मे सुखी होता है। किसी भी उत्तम ज्योतिषि से अपने चंद्रमा की स्थिति पता करके उचित उपाय प्राप्त करे तो वैवाहिक जीवन में प्रेम और संपूर्णता प्राप्त होगी।

चंद्रमा को मजबूत करने के उपाय

जिन लोगों का चंद्रमा कमजोर होता है। उनको भगवान शिव की नित्य पूजा अर्चना करनी चाहिए। शिवजी पर जल में शक्कर डाल कर चढ़ाएं, क्योंकि चंद्रमा भगवान शिव के सिर पर विराजमान है। इसलिए शिवपूजन से चंद्र ग्रह के बुरे प्रभाव खत्म होते हैं। साथ ही अपनी माता के चरण स्पर्श करने चाहिए।

चावल के दाने या शुद्ध चांदी का टुकड़ा अपने साथ रखें। साथ ही बहते जल में चावल मिश्री के दाने प्रवाहित करने से भी यह ग्रह मजबूत होता है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code
%d bloggers like this: