धनिष्ठा नक्षत्र का फल

धनिष्ठा नक्षत्र का चिह्न

वैदिक ज्योतिष के अनुसार धनिष्ठानक्षत्र का स्वामी मंगल ग्रह है। यह ढपली की तरह दिखायी देता है। इस नक्षत्र वसुस और लिंग स्री है। यदि आप धनिष्ठानक्षत्र से संबंध रखते हैं, तो उससे जुड़ी अनेक जानकारियाँ जैसे व्यक्तित्व, शिक्षा, आय तथा पारिवारिक जीवन आदि यहाँ प्राप्त कर सकते हैं।

धनिष्ठा नक्षत्र के जातक का व्यक्तित्व

आप बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं और अपने हर एक काम में दक्ष हैं। परिस्थिति के अनुसार स्वयं को ढालने में आप कुशल हैं। मन, कर्म व वचन से आप किसी को कष्ट नहीं देते। आपका दिमाग़ काफ़ी तेज़ है और आप ज्ञान प्राप्त करने के लिए सदैव तैयार रहते हैं। आपकी मोहक मुस्कान आपके व्यक्तित्व को आकर्षित करने की शक्ति प्रदान करती है। आप धर्मात्मा प्रवृत्ति के हैं और अपनी योग्यता, चरित्र व प्रयत्नों से सदैव शुभ आचरण करने का प्रयास करते हैं। बातचीत करने में कुशल होने के कारण आप दूसरों का स्नेह और समर्थन आसानी से प्राप्त कर लेते हैं। दूसरों को उचित आदर व सम्मान देना आपको भली-भांति आता है। सभी लोग आपके समीप रहकर प्रसन्नता व संतोष पाते हैं। आप हँसमुख, मिलनसार व सामाजिक हैं, इसलिए अकेले रहना आपको पसंद नहीं है। लोगों के साथ घुलना मिलना आपको अच्छा लगता है। आप धर्मपरायण व उत्साही हैं, इसलिए अपने कर्तव्यों व दायित्वों से मुँह मोड़ना आपको अच्छा नहीं लगता। सभी विघ्न-बाधाओं व मुश्किलों का मुक़ाबला करना आपका स्वभाव है। आपकी नृत्य व संगीत में रुचि है और आप एक कुशल गायक व नर्तक भी बन सकते हैं। वाद-विवाद करने में आप सर्वोपरि हैं इसलिए राजनीति व वकालत के क्षेत्रों में विशेष सफलता प्राप्त कर सकते हैं। आप में किसी भी बात को गुप्त रखने की जन्म-जात योग्यता होने के कारण आप ख़ुफ़िया विभाग या उच्चाधिकारियों के निजी सचिव के पद के लिए पूर्ण योग्य हैं। आपकी शिक्षा कुछ भी हो परंतु आप अपनी बुद्धिमानी के लिये जाने जाते हैं। हर समय कुछ-न-कुछ करते रहना आपकी आदत में शुमार है। अपनी लगन एवं क्रियाशीलता के कारण आप अपनी मंज़िल प्राप्त करने में सफल रहेंगे। आप काफ़ी महत्वाकांक्षी भी हैं और जो कुछ मन में ठान लेते हैं उसके प्रति निश्चय पूर्वक तब तक जुटे रहते हैं जब तक की वह कार्य सफल न हो जाए। अधिकार जमाने में भी आप काफ़ी आगे रहते हैं। लोगों पर अपना प्रभाव बनाये रखना आपको पसंद है इसलिए जो भी कार्य आप करते हैं उसमें सावधानी का ख़्याल रखते हैं और हमेशा सचेत रहते हैं। आपके अंदर स्वाभिमान की भावना भरी हुई है इसलिए आप अपने मान-सम्मान को जीवन में सबसे अधिक महत्व देते हैं। आपकी बौद्धिक क्षमता अच्छी है और आप किसी भी विषय में तुरंत निर्णय लेने में सक्षम हैं। इसमें आपको किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं महसूस होती है। अपनी निर्णयात्मक क्षमता से आप जीवन में अच्छी सफलता हासिल करते हैं। व्यवसाय की बजाय नौकरी को आप अधिक तरजीह देते हैं अर्थात नौकरी करना आपको अधिक पसंद है। वैसे आप नौकरी में हों या व्यवसाय में – दोनों में ही उच्च स्थिति में रहेंगे।

शिक्षा और आय

आप इतिहासकार, संगीतज्ञ, नर्तक, मंच कलाकार, एथलीट या खिलाड़ी, बैंक अधिकारी, वैज्ञानिक या भौतिकी विशेषज्ञ, कंप्यूटर से जुड़े कार्य, सैनिक, कवि, गीतकार, गायक व संगीतकार, ज्योतिषी, आध्यात्मिक गुरु, शल्य चिकित्सक, इलेक्ट्रॉनिक सामान बेचने या बनाने वाले, प्रशासन अधिकारी आदि बनकर सफल हो सकते हैं। आपके लिए इंजीनियरिंग व हार्ड वेयर का क्षेत्र भी अधिक अनुकूल है। व्यवसाय की दृष्टि से आपके लिए प्रोपर्टी का काम अधिक लाभप्रद है।

पारिवारिक जीवन

भाई-बहनों से आपको विशेष लगाव होगा और वैवाहिक जीवन सुखी रहेगा। जीवनसाथी भाग्यशाली सिद्ध होगा। उत्तराधिकारी के रूप में आपको काफ़ी संपत्ति मिलेगी परंतु सुसराल पक्ष से कोई लाभ नहीं मिलेगा। आपका जीवनसाथी दयालु व परोपकारी प्रवृति का होगा और आय से अधिक ख़र्च करना उसका स्वभाव हो सकता है। वैसे विवाह के बाद ही आपकी आर्थिक उन्नति अधिक होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: