ज्योतिष में ग्रहों के गोचर को विशेष स्थान दिया गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि वैदिक ज्योतिष के अनुसार सभी ग्रह व्यक्ति के जीवन को विभिन्न मोर्चे पर और जीवन के तमाम पहलुओं को प्रभावित करते हैं। ऐसे में जब किसी ग्रह का वक्री गोचर होता है अर्थात उल्टी गति में गोचर होता है तो उसे और भी ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि अक्सर देखा गया है वक्री स्थिति में शुभ ग्रह के शुभ प्रभाव भी कम होने लगते हैं।

ऐसे में आज अपने इस गोचर विशेष ब्लॉग के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि 10 मई को होने वाले वक्री बुध के गोचर का सभी राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा। इस गोचर से किन राशियों को सावधान रहने की जरूरत पड़ेगी और किन राशियों का भाग्योदय होने की संभावना है। साथ ही जानेंगे इस गोचर के नकारात्मक प्रभाव को कम करने और सकारात्मक प्रभाव को बढ़ाने के कुछ सरल सटीक ज्योतिषीय उपायों की भी जानकारी।

 

ज्योतिष में बुध ग्रह

बुध ग्रह को ज्योतिष में महत्वपूर्ण दर्जा दिया गया है क्योंकि यह व्यक्ति के जीवन में संचार और व्यवसाय का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसे में जिन जातकों की कुंडली में बुध ग्रह मजबूत अवस्था में होता है ऐसे जातक शानदार वक्ता बनते हैं, इनकी सोचने समझने की शक्ति शानदार होती है। वहीं इसके विपरीत यदि कुंडली में बुध ग्रह दुर्बल अवस्था में मौजूद हो या पीड़ित अवस्था में मौजूद हो तो ऐसे जातकों को जीवन में तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

 

बुध ग्रह को जानने के बाद अब समझ लेते हैं बुध गोचर क्या होता है?

सरल शब्दों में समझाएं तो बुध गोचर का अर्थ होता है बुध का एक राशि से निकलकर दूसरी राशि में प्रवेश कर जाना। ऐसे में 10 मई को बुध ग्रह वक्री अवस्था अर्थात अपनी उल्टी चाल में वृषभ राशि में प्रवेश कर जाएगा।

ज्योतिष के जानकार जानते और मानते हैं कि, वक्री गति अर्थात पृथ्वी से देखने पर जब ऐसा लगे कि कोई ग्रह पीछे की दशा में चल रहा है तो इसे ग्रहों का वक्री हो जाना कहते हैं। हालांकि ऐसा असल में होता नहीं है। यह केवल एक प्रकार का भ्रम होता है। बुध ग्रह एक राशि में तकरीबन 23 दिनों तक रहता है और उसके बाद दूसरी राशि में प्रवेश कर जाता है।

वक्री गोचर की बात करें तो जब कोई ग्रह वक्री होता है तो उसकी गति के चलते होता है। ऐसे में उस ग्रह की तीव्रता और चाल अधिक हो जाती है। ऐसे में आम तौर पर देखा गया है कि किसी ग्रह के वक्री  होने पर उसके प्रभाव और परिणामों में तीव्रता आने लगती है।

 

वृषभ राशि में वक्री बुध की समयावधि

बुध 10 मई, 2022 को शाम 5:16 बजे वृषभ राशि में वक्री होगा और फिर 3 जून, 2022 को मार्गी हो जाएगा।

वृषभ राशि में बुध के प्रभावस्वरुप राहु के दोषों में कमी आने की प्रबल संभावना बनती नज़र आ रही है। तो आइए आगे बढ़ते हैं और जानते हैं बुध ग्रह के वक्री होने का सभी राशियों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा।

वक्री बुध से बचने के उपाय

  • बुद्ध मंत्र ‘ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय् नम: का 14 बार जप करें।
  • बुध ग्रह के नकारात्मक और अशुभ प्रभाव से बचने के लिए सुबह और रात में ध्यान अवश्य करें।
  • इसके अलावा वक्री बुध के दुष्परिणाम दूर करने के लिए पन्ना या हरा गोमेद पहनने की सलाह दी जाती है। हालांकि कोई भी रत्न धारण करने से पहले किसी विद्वान ज्योतिषी या पंडित से परामर्श अवश्य ले लें।
  • किन्नरों से आशीर्वाद लें, कभी भी उन्हें बुरा भला ना कहें, और उन्हें धन का दान जरूर करें।
  • इसके अलावा हरे रंग के वस्त्रों, मूंग की दाल, और हरी वस्तुओं का ज़्यादा से ज़्यादा दान करें। साथ ही गाय को हरा चारा खिलाएं। इन उपायों को करने से आपको बुध ग्रह से संबंधित शुभ परिणाम शीघ्र ही प्राप्त होने लगेंगे।

 

मेष

मेष राशि के जातकों के लिए बुध उनके दूसरे भाव यानी कि धन, परिवार और संवाद के भाव में वक्री होगा। इस दौरान आपकी वाणी में सुधार होने की संभावना है। साथ ही आपके स्वभाव में विनम्रता देखी जा सकती है। इस अवधि में आप अपने आस-पास के लोगों को अपने दृष्टिकोण से हर चीज़ समझाने का हर संभव प्रयास करते नज़र आ सकते हैं। हालांकि, आप अपने मन की बातों को समझाने में सक्षम नहीं रहेंगे लेकिन आपके विचार बहुत उच्च और लीक से हटकर यानी रचनात्मक हो सकते हैं।

आपको इस दौरान अपने छोटे भाई-बहनों के साथ संबंधों में कुछ मतभेदों और ग़लतफ़हमियों का सामना करना पड़ सकता है।

आर्थिक दृष्टिकोण से, इस दौरान आपको कुछ अनिश्चितताओं का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही अचानक से हानि होने की आशंका है इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि इस दौरान कहीं भी पैसा निवेश करने से बचें।

जो जातक नौकरीपेशा हैं, उन्हें अपने सहकर्मियों और पेशेवर मित्रों के साथ कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यह अवधि बैंकर्स और अकाउंटेंट्स के लिए अनुकूल सिद्ध हो सकती है। संभावना है कि इस दौरान आपके काम करने के कौशल में गज़ब का सुधार देखा जाएगा, जिससे कि संभावित ग्राहकों का ध्यान आपकी ओर आकर्षित होगा।

मेष राशि के छात्रों के लिए यह अवधि अच्छी रहने वाली है क्योंकि इस दौरान उनकी याददाश्त तेज होने की संभावना है साथ ही, अपनी पढ़ाई में उनकी पकड़ अच्छी रह सकेगी।

उपाय: अपनी चाची और मामी लोगों के साथ संबंध अच्छे रखें और मुमकिन हो तो उन्हें तोहफ़े आदि भी दें।

 

वृषभ

वृषभ राशि के जातकों के लिए बुध उनके लग्न भाव में वक्री होगा। इस दौरान आपके अंदर चीज़ों का विश्लेषण करने की क्षमता में सुधार होने की संभावना है। साथ ही आप अपनी चीज़ों की गणना करने और योजनाएं बनाने में अच्छे हो सकते हैं।

आर्थिक रूप से यह अवधि वृषभ राशि के जातकों के लिए अनुकूल सिद्ध हो सकती है। संभावना है कि इस दौरान आप अपने अतीत के कुछ निवेशों से आर्थिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

जो जातक आगे की पढ़ाई के लिए योजना बना रहे हैं, उनके लिए भी यह अवधि अनुकूल सिद्ध होगी। आप अपने तेज़ दिमाग और गणनात्मक कौशल से किसी भी परीक्षा को पास करने में सफल हो सकते हैं।

आप अपने दैनिक जीवन में अधिक सक्रिय रह सकते हैं और तरह-तरह के काम करना पसंद कर सकते हैं। निरंतर उच्च ऊर्जा के साथ काम करने और त्वरित रूप से विचार करने की वजह से आपको कुछ मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा, इस दौरान आपको सिरदर्द और अनिद्रा की शिकायत हो सकती है। साथ ही वज़न कम होने की भी आशंका है इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि पूरी नींद लें और मस्तिष्क को आराम देने के लिए योग, व्यायाम और ध्यान करने जैसी आदतों को अपनी दिनचर्या में शामिल करें।

उपाय: बुधवार के दिन कन्याओं को हरे वस्त्र व चूड़ियां दान करें।

 

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए बुध उनके बारहवें भाव यानी कि व्यय, हानि और यात्रा के भाव में वक्री होगा। लग्न भाव के स्वामी का आपके बारहवें भाव में वक्री होना, स्वास्थ्य के लिहाज से अनुकूल नहीं है। इस दौरान आपको तंत्रिका तंत्र से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है। आपको चक्कर आ सकते हैं और अनिद्रा का भी सामना करना पड़ सकता है। अतीत की बीमारी के दोबारा शुरू होने की भी आशंका अधिक है इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि अपने स्वास्थ्य की देखभाल करें और नियमित जांच कराएं।

इस दौरान आपके बिजली के उपकरण ख़राब हो सकते हैं या फट सकते हैं, इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि अपने मोबाइल, टेलीविज़न, स्पीकर आदि से सावधान रहें और चार्ज करते समय उनकी विद्युत धारा (करंट) का ध्यान रखें।

इस अवधि में आपके ख़र्चों में भी वृद्धि होने की आशंका है। आप इन ख़र्चों को लेकर मानसिक रूप से दबाव महसूस कर सकते हैं या थोड़े चिंतित नज़र आ सकते हैं।

इस दौरान आप अतीत की रुकी हुई या अटकी हुई कुछ परियोजनाओं पर काम करते हुए, उन्हें दोबारा से सक्रिय करने का प्रयास कर सकते हैं। साथ ही, आप इस दौरान खाली समय व्यतीत करने के लिए कुछ यात्राओं की योजना बना सकते हैं।

उपाय: तांबे के बर्तन में हरी दाल भरकर किसी सुनसान जगह पर दफ़ना दें!

 

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिए बुध उनके ग्यारहवें भाव यानी कि आय और लाभ के भाव में वक्री होगा। यह अवधि आपके लिए आर्थिक रूप से काफ़ी लाभकारी सिद्ध होगी। इस दौरान आप कुछ ऐसे स्रोतों से कमाई कर सकते हैं, जिसकी आपको उम्मीद भी नहीं होगी साथ ही, आप अपनी अटकी हुई या रुकी हुई कुछ परियोजनाओं से भी कमाई करने में सफल हो सकते हैं। इसके अलावा, आप अपने पुराने दोस्तों और व्यावसायिक संबंधों की मदद से भी कमाई कर सकते हैं। संभावना है कि इस अवधि में आप चीज़ों की मरम्मत और उनके नवीनीकरण पर धन ख़र्च कर सकते हैं।

जो जातक विदेशी बाज़ारों के साथ डीलिंग का काम कर रहे हैं, वे इस दौरान अपने व्यवसाय में वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं चूंकि इस अवधि में आपके कुछ पुराने ग्राहकों से पुनः अच्छे संबंध स्थापित होने की संभावना है। साथ ही, कुछ पुराने दोस्तों के साथ संबंधों में सुधार होने की भी संभावना है। यदि आपका अपने भाई-बहनों के साथ रिश्ते में कोई विवाद चल रहा है तो यह अवधि आपके लिए अकुनूल सिद्ध हो सकती है, उनसे भी संबंधों में सुधार होने की संभावना अधिक है।

उपाय: आर्थिक संपन्नता और जीवन में ख़ुशहाली के लिए आपको चांदी की चेन में सोने का पेंडेंट पहनने की सलाह दी जाती है।

 

सिंह

सिंह राशि के जातकों के लिए बुध उनके दसवें भाव यानी कि व्यवसाय और करियर के भाव में वक्री होगा। यह अवधि निवेश करने के मामले में अनुकूल सिद्ध हो सकती है। संभावना है कि इस दौरान आप कई गुना कमाई करने में सक्षम रह सकते हैं।

जो जातक ख़ुद के व्यवसाय में हैं, उन्हें थोड़ी धीमी गति से परिणाम मिलने की संभावना है। इस अवधि में आप अधिकतर समय भ्रमित रह सकते हैं क्योंकि इस दौरान व्यवसाय में आपको बार-बार होने वाली कुछ समस्याओं और परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप साझेदारी के व्यवसाय में हैं तो आपको यह सलाह दी जाती है कि अपने साझेदारों और सहयोगियों से सावधान रहें क्योंकि ऐसी आशंका है कि उनकी कुछ गतिविधियाँ मार्केट में आपके व्यवसाय की छवि ख़राब कर सकती हैं।

व्यक्तिगत रूप से देखा जाए तो इस दौरान आपके घर की सुख-शांति भंग होने की आशंका है। आपके घर के सदस्यों के बीच मतभेद और ग़लतफ़हमियां हो सकती हैं, जिसकी वजह से आप थोड़े परेशान नज़र आ सकते हैं। इसके अलावा, आप किसी पुराने वाहन या घर के सामान जैसे कि रेफ्रिज़रेटर, टेलीविज़न, म्यूज़िक सिस्टम आदि को बेचने या ख़रीदने की डील कर सकते हैं।

उपाय: गायों को हरा चारा खिलाएं!

 

कन्या

कन्या राशि के जातकों के लिए बुध उनके नौवें भाव यानी कि भाग्य और धर्म के भाव में वक्री होगा। आशंका है कि इस दौरान आपको हर काम पूरा करने के लिए अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होगी क्योंकि आपको किसी भी चीज़ का पहले से कोई अंदाज़ा नहीं होगा।

जो छात्र आगे की पढ़ाई कर रहे हैं, उनके दिमाग में चीज़ें ज़्यादा देर तक नहीं टिक सकती हैं या वे चीज़ों को भूल सकते हैं, जिसकी वजह से उन्हें पुनः अपने पूरे पाठ्यक्रम से गुज़रना पड़ सकता है।

जो जातक नौकरीपेशा हैं, उनके संबंध अपने बॉस के साथ अच्छे न रहने की आशंका है, जिससे उनकी छवि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

इस दौरान आपके संबंध अपने पिता या पिता तुल्य इंसान के साथ बहुत अच्छे न रहने की आशंका है। आपकी उनसे अक्सर बहस हो सकती है।

जो जातक ख़ुद के व्यवसाय में हैं, उन्हें अपने काम के लिए कुछ यात्राओं की योजना बनानी पड़ सकती है लेकिन आशंका है कि उन यात्राओं से आपको कुछ ख़ास परिणाम हासिल नहीं होंगे। हालांकि, आप इन यात्राओं के ज़रिए अपने मौजूदा ग्राहकों को बनाए रखने में सक्षम रह सकेंगे।

इस दौरान आपका झुकाव अपने धर्म और संस्कृति के बारे में जानने की ओर रह सकता है।

उपाय: तुलसी का पेड़ लगाएं और उसकी देखभाल करें!

 

तुला

तुला राशि के जातकों के लिए बुध उनके आठवें भाव यानी कि अनिश्चितता, असुरक्षा और परिवर्तन के भाव में वक्री होगा। आर्थिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो इस अवधि में आपको अनुकूल परिणाम न मिलने की आशंका है। साथ ही, इस दौरान किसी कीमती वस्तु की चोरी या किसी प्रकार की हानि होने की भी आशंका है। जो जातक स्टॉक मार्केट से जुड़े हुए हैं, इस दौरान उनका भाग्य ज़्यादा साथ नहीं दे सकता है। आपको यह सलाह दी जाती है कि इस दौरान थोड़ा सोच-समझ कर ही अपना भाग्य आज़माएं क्योंकि आपकी गणना ग़लत होने की आशंका अधिक है।

इस दौरान आपका स्वास्थ्य थोड़ा नाज़ुक रहने की आशंका है। आप एलर्जी, तनाव, घबराहट और तंत्रिका तंत्र से जुड़ी किसी समस्या ग्रसित हो सकते हैं। आपको यह सलाह दी जाती है कि अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और नियमित जांच कराएं।

इस दौरान आपके ख़र्चों में भी वृद्धि देखी जा सकती है। आशंका है कि आप बेकार की चीज़ों में धन ख़र्च कर सकते हैं यानी कि फ़िज़ूलख़र्च कर सकते हैं। साथ ही, अस्पतालों के कुछ बिल भी आपके ख़र्चों में इज़ाफ़ा कर सकते हैं।

तुला राशि के जो छात्र मनोविज्ञान और शोध कार्यों से जुड़ी पढ़ाई कर रहे हैं, उनके लिए यह अवधि अनुकूल सिद्ध हो सकती है।

उपाय: ज़रूरतमंद लोगों और बच्चों को स्टेशनरी व दवाएं दान करें!

 

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए बुध उनके सातवें भाव यानी कि जीवनसाथी, साझेदारी और व्यवसाय के भाव में वक्री होगा। इस दौरान आपको अपने संबंधों, विशेष रूप से अपने जीवनसाथी के साथ संबंधों में कुछ उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। आशंका है कि आपको उनके साथ संबंध में कुछ मतभेदों में ग़लतफ़हमियों का सामना करना पड़ सकता है। आपके वैवाहिक जीवन में कई सारे बाहरी लोगों के हस्तक्षेप के कारण आपकी परेशानियां बढ़ सकती हैं। इसके अलावा, यह अवधि आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य के लिहाज से भी अनुकूल न रहने की आशंका है यानी आपके जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

जो जातक एकल जीवन व्यतीत कर रहे हैं, उनके लिए यह अवधि अनुकूल रहने वाली है। इस दौरान आपके सामने कुछ अच्छे प्रस्ताव आ सकते हैं साथ ही, अतीत के कुछ प्रस्तावों के दोबारा आने की प्रबल संभावना है।

जो जातक साझेदारी के व्यवसाय में हैं, उन्हें इस दौरान थोड़ी सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है क्योंकि आपके ख़िलाफ़ किसी प्रकार की साज़िश होने की आशंका है। आपको यह सलाह दी जाती है कि इस दौरान पैसे का निवेश न करें अन्यथा आप किसी धोखाधड़ी के सौदे में पड़ सकते हैं या आपको नुकसान हो सकता है। आपको यह भी सलाह दी जाती है कि इस अवधि में किसी को भी पैसे उधार न दें अन्यथा आपको अपना धन वापस मांगने में कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय: बुधवार के दिन हरे रंग के वस्त्र धारण करें!

 

 

धनु

धनु राशि के जातकों के लिए बुध उनके छठे भाव यानी कि रोग, प्रतिस्पर्धा, विवाद और सेवा के भाव में वक्री होगा। यह अवधि आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य के लिहाज से अनुकूल न रहने की आशंका है। उन्हें तंत्रिका तंत्र से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है साथ ही, किसी बीमारी के दोबारा होने की भी आशंका है।

जो जातक अपने वैवाहिक जीवन में कुछ विवादों और तनाव का सामना कर रहे थे, उन्हें इस दौरान अपने रिश्ते में और ज़्यादा समस्याओं और विवादों का सामना करना पड़ सकता है।

जो जातक एकल जीवन व्यतीत कर रहे हैं लेकिन रोका या सगाई कर चुके हैं, उन्हें अपने मंगेतर के साथ संबंधों में कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

जो जातक साझेदारी के व्यवसाय में हैं, उनके लिए यह अवधि अनुकूल रहने की संभावना है। इस दौरान आप अपने व्यवसाय में वृद्धि देख सकेंगे। साथ ही आप अपने व्यवसाय की तरक्की और विकास के लिए कुछ पुराने संसाधनों का प्रयोग कर सकते हैं।

जो जातक अकाउंटिंग प्रोफेशनल और बैंकर हैं, उनके लिए यह अवधि अनुकूल रहने वाली है। कार्यक्षेत्र में आपके अच्छे काम के लिए वरिष्ठ प्रबंधन या बॉस द्वारा सराहना की जा सकती है। साथ ही, आप इस दौरान अपने अच्छे मार्केटिंग कौशल और संचार कौशल के ज़रिए अधिक ग्राहक बनाने में सफल हो सकते हैं।

उपाय: अपने रिश्तों में सुख-शांति लाने के लिए मंदिर में हरी दाल का दान करें!

 

मकर

मकर राशि के जातकों के लिए बुध उनके पांचवें भाव यानी कि मनोरंजन, संतान और शिक्षा के भाव में वक्री होगा। छात्रों के लिए यह समय अनुकूल रहने वाला है। छात्र अपनी पढ़ाई के प्रति अपनी एकाग्रता में वृद्धि देख सकते हैं साथ ही, उनके अंदर चीज़ों का विश्लेषण करने की क्षमता में भी सुधार होने की संभावना है। आप अपने विषयों को सही ढंग से याद रख सकेंगे और अपनी पढ़ाई के दबाव को भी संतुलित करने में सफल रह सकते हैं।

जो छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं, उनके अंदर अपनी परीक्षाओं का सामना करने का जज़्बा बुलंद रहेगा। आप अपनी पढ़ाई के प्रति ध्यान केंद्रित करने में सफल रह सकेंगे, जिससे कि आपको अपनी परीक्षाओं के सकारात्मक परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

आप में से कुछ छात्र ऐसे भी हो सकते हैं, जिन्हें किसी कारणवश अपने पिछले पाठ्यक्रमों को छोड़ना पड़ा हो, उन्हें इस दौरान अपने पिछले पाठ्यक्रम का अध्ययन करने का अवसर मिल सकता है। यदि आप अपनी पढ़ाई के लिए विदेश के किसी संस्थान में प्रवेश लेने की योजना बना रहे हैं तो आप आवेदन कर सकते हैं, इस दौरान आपको इसमें सफलता प्राप्त हो सकती है।

इस अवधि में आप अपने अंदर ताज़गी महसूस करने के लिए अपनी रुचि व शौक पर एक बार फिर से ध्यान केंद्रित कर सकते हैं क्योंकि इस दौरान आपको इन कार्यों से अनुकूल परिणाम प्राप्त होने के योग बन रहे हैं।

स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाए तो इस दौरान आपके बच्चे को कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जिसकी वजह से आप थोड़े चिंतित नज़र आ सकते हैं। आपको यह सलाह दी जाती है कि अपने बच्चे के स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

उपाय: प्रतिदिन सुबह माँ दुर्गा की पूजा करें और दुर्गा सप्तशती का पाठ करें!

 

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध उनके चौथे भाव यानी कि पारिवारिक सुख, भूमि, संपत्ति और वाहन के भाव में वक्री होगा। इस दौरान आप अपने घर की मरम्मत करवा सकते हैं या अपने घर की चीज़ों को फिर से सुव्यवस्थित करवा सकते हैं। आपके घर का माहौल बहुत अच्छा न रहने की आशंका है क्योंकि इस अवधि में आपके घर के सदस्यों के बीच कुछ मतभेद पैदा हो सकते हैं।

यदि आपने पहले से ही किसी भूमि या संपत्ति में निवेश करने की योजना बना रखी है तो संभावना है कि इस अवधि में आप इसमें निवेश कर सकते हैं। जो जातक अपने परिवार से कहीं दूर रह रहे हैं, उनके घर वापस जाने की प्रबल संभावनाएं हैं।

स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाए तो इस दौरान आपकी माँ को कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। आपको यह सलाह दी जाती है कि अपनी माँ के स्वास्थ्य का ध्यान रखें, विशेष रूप से यदि वे किसी पुरानी बीमारी से पीड़ित हैं, अन्यथा समस्याएं बढ़ सकती हैं।

उपाय: प्रतिदिन सुबह 108 बार ‘ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ का जाप करें!

 

मीन

मीन राशि के जातकों के लिए बुध उनके तीसरे भाव यानी कि साहस, बल, लघु यात्रा और भाई-बहन के भाव में वक्री होगा। यह अवधि आपके लिए अपने पुराने दोस्तों और दूर के भाई-बहनों से मिलने के लिए अनुकूल सिद्ध हो सकती है। साथ ही आप उनके साथ मौज-मस्ती करने के लिए किसी यात्रा की योजना भी बना सकते हैं।

जो जातक मीडिया, पर्यटन और संचार क्षेत्र में कार्यरत हैं, उनके लिए यह अवधि अनुकूल सिद्ध हो सकती है। इस दौरान कार्यक्षेत्र में आपको अपनी योग्यता साबित करने के लिए कई अवसर प्राप्त होने की संभावना है, जिससे आपके प्रदर्शन में सुधार देखा जा सकता है।

इस दौरान आप अपने प्रेमी/प्रेमिका के साथ अपने विचार साझा करने में कठिनाई का अनुभव कर सकते हैं जिसकी वजह से आपके संबंधों में कुछ समस्या आने की आशंका है।

उपाय: प्रतिदिन सुबह विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें!

हम आशा करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। omasttro  के साथ जुड़े रहने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: