2022 में हरतालिका तीज

30

अगस्त, 2022

(मंगलवार)

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका तीज मुहूर्त

प्रातःकाल मुहूर्त :
05:57:47 से 08:31:19 तक
अवधि :
2 घंटे 33 मिनट

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

आइए जानते हैं कि 2022 में हरतालिका तीज कब है व हरतालिका तीज 2022 की तारीख व मुहूर्त। हरतालिका तीज व्रत हिंदू धर्म में मनाये जाने वाला एक प्रमुख व्रत है। भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज मनाई जाती है। दरअसल भाद्रपद की शुक्ल तृतीया को हस्त नक्षत्र में भगवान शिव और माता पार्वती के पूजन का विशेष महत्व है। हरतालिका तीज व्रत कुमारी और सौभाग्यवती स्त्रियां करती हैं। विधवा महिलाएं भी इस व्रत को कर सकती हैं। हरतालिका तीज व्रत निराहार और निर्जला किया जाता है। मान्यता है कि इस व्रत को सबसे पहले माता पार्वती ने भगवान शंकर को पति के रूप में पाने के लिए किया था। हरतालिका तीज व्रत करने से महिलाओं को सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

हरतालिका तीज का क्‍या महत्‍व है (Hartalika Teej Vrat & Festival Ka Mahatva)

हरतालिका तीज का व्रत (Hattalika Teej Vrat Ki Katha) का महत्‍व सबसे पहले माता पार्वती ने घोर तपस्‍या करके व हर वर्ष हरतालिका तीज का व्रत पूरी श्रद्धा भाव से करके भगवार शंकर को अपने पति रूर में पा लिया। जब माता पार्वती भगवान शिव को पाने के लिए कठिन (घोर) तपस्‍या कर रही थी। तो उनकी सहेलियों ने उसे अगवार (हरण) कर लिया था। इसी कारण इस व्रत को हरतालिका तीज का नाम दे दिया।

यदि आप भी अपनी मनोकामनाए पूर्ण करने के लिए हर तालिका तीज का व्रत रखते है। उन्‍हे व्रत वाले दिन भगवान शंकर व माता पार्वती की मिट्टी की मूर्ति बनाकर उसकी पूजा की जाती है। और सुन्‍दर वस्‍त्रों कदली स्‍तम्‍भों से गृह को सजाकर रात्रि के समय भगवार के नाम का जागरण करना चाहिए। जिससे भगवार भोलेनाथ आप पर खुश हो जाएगे। इस तरह हरतालिका तीज Hartalika Teej Vrat Katha का बड़ा महत्‍व माना गया है।

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका तीज व्रत के नियम

  • हरतालिका का व्रत रखने वाली स्‍त्रीं को पूरे दिन एवं रात को जल ग्रहण नहीं करने के कारण यह व्रत निर्जला व्रत कहलाता है।
  • यह व्रत सुहागन महिलाए एवं कुवांरी कन्‍याए करती है। तथा जिन औरते के पति नहीं है वो औरते भी अपने पुुत्र की लम्‍बी उम्र के लिए हरतालिका तीज का व्रत कर सकती है।
  • जब कोई औरत एक बार इस व्रत को करना प्रारंभ कर देती है उसे हर वर्ष यह व्रत करना होता है।
  • इस व्रत पर पूजा करने के बाद रात्रि के समय सभी औरते के द्वारा जागरण किया जाता है।
  • अगले दिन प्रात:काल जल्‍दी उठकर स्‍नान आदि से मुक्‍त होकर मंदिर में सीधा देकर किसी गरीब व ब्राह्मण को दान करे। तथा उसके बाद स्‍वयं भोजन ग्रहण करे।
  • हरतालिका तीज व्रत में जल ग्रहण नहीं किया जाता है। व्रत के बाद अगले दिन जल ग्रहण करने का विधान है।
  • हरतालिका तीज व्रत करने पर इसे छोड़ा नहीं जाता है। प्रत्येक वर्ष इस व्रत को विधि-विधान से करना चाहिए।
  • हरतालिका तीज व्रत के दिन रात्रि जागरण किया जाता है। रात में भजन-कीर्तन करना चाहिए।
  • हर तालिका तीज व्रत कुंवारी कन्या, सौभाग्यवती स्त्रियां करती हैं। शास्त्रों में विधवा महिलाओं को भी यह व्रत रखने की आज्ञा है।

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका तीज व्रत पूजा विधि

हरतालिका तीज पर माता पार्वती और भगवान शंकर की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस व्रत की पूजा विधि इस प्रकार है..

● हरतालिका तीज प्रदोषकाल में किया जाता है। सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्त को प्रदोषकाल कहा जाता है। यह दिन और रात के मिलन का समय होता है।

● हरतालिका पूजन के लिए भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश की बालू रेत व काली मिट्टी की प्रतिमा हाथों से बनाएं।

● पूजा स्थल को फूलों से सजाकर एक चौकी रखें और उस चौकी पर केले के पत्ते रखकर भगवान शंकर, माता पार्वती और भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करें।

● इसके बाद देवताओं का आह्वान करते हुए भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान गणेश का षोडशोपचार पूजन करें।

● सुहाग की पिटारी में सुहाग की सारी वस्तु रखकर माता पार्वती को चढ़ाना इस व्रत की मुख्य परंपरा है।

● इसमें शिव जी को धोती और अंगोछा चढ़ाया जाता है। यह सुहाग सामग्री सास के चरण स्पर्श करने के बाद ब्राह्मणी और ब्राह्मण को दान देना चाहिए।

● इस प्रकार पूजन के बाद कथा सुनें और रात्रि जागरण करें। आरती के बाद सुबह माता पार्वती को सिंदूर चढ़ाएं व ककड़ी-हलवे का भोग लगाकर व्रत खोलें।

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका व्रत पूजा सामग्री (Hartalika Teej Puja Samgri List)

Hattalika Teej Vrat (हरतालिका तीज का व्रत) खोलने के लिए निम्‍नलिखित सामग्रीयों की जरूरत होती है जो की इस प्रकार है:-

  • सुहाग की सभी सामग्रीया
  • उीस मौसम के फूल व फल
  • मिट्टी का कलश
  • दूध, दहीं व शहद
  • पंचामृत, घी व शक्‍कर
  • रौली-मौली व चन्‍दन
  • बैलपत्र, धतूरे के फूव व फल
  • तुलसी, मंजरी एवं अकावॅ के पुष्‍प
  • केले के पत्ते, कई तरह के फूल
  • जनैव, वस्‍त्र व नाड़ा
  • बालू रेत व काली मिट्टी
  • कपूर व तुल इत्‍यादी

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका तीज व्रत की पूजा विधि (Hartalika Teej Vrat ki Pujan Vidhi)

  • इस व्रत को रखने वाली सभी औरते प्रात:काल जल्‍दी उठरक स्‍नान आदि से मुक्‍त होकर सूर्य भगवान को पानी चढाऐ। उसके बाद पीपल व तुलसी के पेड़ में चढ़ाऐ।
  • इसके बाद घर के आगंन में शिव व माता पार्वती एवं गणेश जी की मिट्टी की मूर्ति बनाकर रख दे।
  • इसके बाद Hartalika Teej Vrat की पूजा प्रदोष काल के समय किया जाता है। यानी प्रात:कला या फिर संध्‍या के समय।
  • पूजा के लिए सबसे पहले फुलेरा बनाकर उसे सजाया जाता है। फिर उस पर एक चौकी या पट्टा रख देना है।
  • अब एक थाल में सातिया बनाकर उसमें केले के पत्ते रख देना है।
  • इसके बाद भगवार शिवजी व माता पार्वती एवं गणेश जी की मूर्ति को उस केले के ऊपर रख देना है।
  • अब घडिये को एक तरफ रखकर उसके ऊपर कुछ फल रखे और घड़े के मूहं पर लाल नाड़ा बाधे एवं पूजा करके अक्षत चढ़ाऐ।
  • इसके बार भगवान शिव व माता पार्वती एवं भगवान गणेज जी का पूजन पूरे विधि-विधान से करे।
  • Hartalika Teej Vrat Ki Puja के बाद माता पार्वती को 16 श्रृंगार चढ़ाऐ जाते है। तथा भगवान की मूर्ति के चारो ओर परिक्रमा करे।
  • रात में जागरण किया जाता है जागरण में पांच भगवान शिव के भजन पांच ही माता पार्वती एवं गणेश जी के गाए जाते है।
  • भजन गाने के बाद पाचं आरतीया की जाती है। तथा सुबह अन्तिम पूजा के बाद माता पार्वती को सिदूंर चढ़ाया जाता है।
  • हरतालिका तीज का व्रत रखने वाली सभी सुहागन औरते उस सिदूंर में से सिदूंर लेती है।
  • इसके बाद भगवान शिव व माता पार्वती को ककड़ी एवं हलवे का भोग लगाकर व्रत वाली सभी औरते उस प्रसाद से अपना व्रत तोड़ती है।
  • यह सब करने के बाद सभी पूजा की सामग्रीयों का इकठ्ठा कर के किसी नदी या तालाब में विसर्जन कर देते है।

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका तीज व्रत का पौराणिक महत्व

हरतालिका तीज व्रत भगवान शिव और माता पार्वती के पुनर्मिलन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। एक पौराणिक कथा के अनुसार माता पार्वती ने भगवान भोलेनाथ को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तप किया था। हिमालय पर गंगा नदी के तट पर माता पार्वती ने भूखे-प्यासे रहकर तपस्या की। माता पार्वती की यह स्थिति देखकर उनके पिता हिमालय बेहद दुखी हुए। एक दिन महर्षि नारद भगवान विष्णु की ओर से पार्वती जी के विवाह का प्रस्ताव लेकर आए लेकिन जब माता पार्वती को इस बात का पता चला तो, वे विलाप करने लगी। एक सखी के पूछने पर उन्होंने बताया कि, वे भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए कठोर तप कर रही हैं। इसके बाद अपनी सखी की सलाह पर माता पार्वती वन में चली गई और भगवान शिव की आराधना में लीन हो गई। इस दौरान भाद्रपद में शुक्ल पक्ष की तृतीया के दिन हस्त नक्षत्र में माता पार्वती ने रेत से शिवलिंग का निर्माण किया और भोलेनाथ की आराधना में मग्न होकर रात्रि जागरण किया। माता पार्वती के कठोर तप को देखकर भगवान शिव ने उन्हें दर्शन दिए और पार्वती जी की इच्छानुसार उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकार किया।

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

हरतालिका तीज व्रत की कथा (Hartalika Teej Vrat Katha in Hindi)

हरतालिका तीज के व्रत Hartalika Teej Vrat Katha in Hindi के माहात्‍मय की कथा भगवान शंकर ने पार्वती को उनके पूर्व जन्‍म का स्‍मरण कराने के लिए सुनाई थी। जो की इस प्रकार है।

Hartalika Teej Vrat Katha in Hindi:- हे पार्वती तुमने एक बार हिमालय पर गंगा तट पर अपनी बाल्‍यावस्‍था में बारह वर्ष की आयु में अधोमुखी होकर घाेर तप किया था। तुम्‍हारी इस कठोर तपस्‍या को देखकर तुम्‍हारे पिता को बड़ा क्‍लेश होता था। एक दिन तुम्‍हारी तपस्‍या और तूम्‍हारे पिता के क्‍लेश के कारण नारद जी तुम्‍हारे पिता के पास आये। और बोले हे राजन विष्‍णु भगवान आपकी कन्‍या सती से विवाह करना चाहते है। उन्‍होने इस कार्य हेतु मुझे आपके पास भेजा है। और तुम्‍हारे पिता ने इस प्रस्‍ताव को स्‍वीकार कर लिया।

इसके बाद देवर्षि नारद जी भगवान विष्‍णुजी के पास जाकर बोले की हिमालयराज अपनी पुत्री सती का विवाह आपसे करना चाहते है। विष्‍णु जी भी इस बात से राजी हो गए। जब तुम घर लोटी तो तुम्‍हारे पिता ने तुम्‍हें बताया की तुम्‍हारा विवाह विष्‍णुजी से तय कर दिया है। यह बात सुनकर माता सती को अत्‍यन्‍त दुख हुआ, और तुम जोर-जोर से विलाप करने लगी।

जब तुम्‍हारी अंतरंग सखी ने तुम्‍हारे रोने का कारण पूछा तो तुमने उसे सारा वृतांत सुना दिया। ओर कहा मैं भगवान शंकर से विवाह करना चाहती हूँ। और उसके लिए मैं कठोर तपस्‍या करके उन्‍हे प्रसन्‍न कर रहीं हूँ। और इधर हमारे पिता विष्‍णुजी के साथ मेंरा सम्‍बन्‍ध करना चाहते है। क्‍या तुम मेरी सहायता करोगी। नहीं तो मैं अपने प्राण त्‍याग दूँगी।

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

तुम्‍हारी सखी बड़ी दूरदर्शी थी। वह तुम्‍हें एक घनघोर जंगल में ले गयी और कहा की तुम यहा पर भगवान शिव को पाने के लिए घोर तपस्‍या कर सकती हो। इधर तुम्‍हरे पिता हिमालयराज तुम्‍हें घर न पाकर बहुत ही चिन्तित हुए। ओर कहा मैं विष्‍णुजी से उसका विवाह करने का वचन दे चुका हूँ। ओर वचन भंग की चिन्‍ता में हिमालयराज मूर्छित हो गए।

इधर तुम्‍हारी खोज होती रही और तुम अपनी सहेली के साथ नदी के तट पर एक गुफा में मरी तपस्‍या करने में लीन हो गई। इसके बाद भाद्रपद शुक्‍ला की तृतीया को हस्‍त नक्षत्र में तुमने रेता का शिवलिंग स्‍थापित करके व्रत किया। और पूजन करके रात्रि को जागरण किया। तुम्‍हारे इस कठिन तप व्रत से मेरा आसन डोलने लगा। ओर मेरी समाधि टूट गई।

मैं तुम्‍हारे पास तुरन्‍त तम्‍हारे पास पहुचां और वर मॉंगने का आदेश दिया। तुम्‍हारी मॉंग तथा इच्‍छानुसार तुम्‍हें मुझे अर्धागिनी के रूप में स्‍वीकार करना पड़ा। ओर तुम्‍हे वरदान देकर मै कैलाश पर्वत पर चला गया। प्रात: होते ही तुमने पूजा की समस्‍त सामग्री को नदी में प्रवाहित करके अपनी सहेली सहित व्रत का पारण किया। उसी समय तुम्‍हें खोजते हुए हिमालय राज उस स्‍थान पर पहुँच गए। ओर रोते हुए तुम्‍हारे घर छोड़ने का कारण पूछा।

तब तुमने अपने पिता को बताया की मै तो शंकर भगवान को अपने पति रूप में वरण कर चुकी हूँ। परन्‍तु आप मेरा विवाह विष्‍णुजी से करवाना चाहते थे। इसी लिए मुझे घर छोडकर आना पड़ा। मैं अब आपके साथ घर इसी शर्त पर चल सकती हूँ, की आप मेरा विवाह विष्‍णुजी से न करके भगवान शंकर जी करेगें। ओर गिरिराज तुम्‍हारी बात मान गए और शास्‍त्रोक्‍त विधि द्वारा हम दोनों को विवाह के बन्‍धन में बॉंध दिया।

इसलिए इस व्रत को ”हरतालिका” इसलिए कहते है की पार्वती की सखी उसे पिता के घर से हरण कर घनघोर जंगल में ले गई थी। ”हरत” अर्थात हरण करना और ”आलिका” अर्थात सखी, सहेली। तो हरत+आलिका (हरतालिका)। और भगवान शंकर जी ने माता पार्वती को यह भी बताया की जो कोई स्‍त्री इस व्रत को परम श्रद्धा से करेगी उसे तुम्‍हारे समान ही अचल सुहाग प्राप्‍त होगा।

दोस्‍तो ये थी हरतालिका व्रत की कथा (Hartalika Teej Vrat Katha in Hindi) जिसके बारे में इस आर्टिकल के माध्‍यम से बताया है। जो केवल पौराणिक मान्‍यताओं व काल्‍पनिक कथाओं व न्‍यूज बेस पर बताया है। अगर आप सभी को हमारा लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्‍तो व मिलने वालो के पास शेयर करे। ताकि वो भी इसे पढ़कर या सुनकर अपना हरतालिका का व्रत पूर्ण कर सके। और यदि आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्‍न है तो कमंट करके जरूर पूछे। धन्‍यवाद

तभी से अच्छे पति की कामना और पति की दीर्घायु के लिए कुंवारी कन्या और सौभाग्यवती स्त्रियां हरतालिका तीज का व्रत रखती हैं और भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद प्राप्त करती हैं।

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

मात्र 21 रूपये में अंक ज्योतिष के माध्यम से अपना प्रश्न पूछे अभी

ॐ एस्ट्रो ग्रुप के Whatsapp ग्रुप से अभी जुड़े – Join Whatsapp

Omasttro के सभी पाठकों को हरतालिका तीज व्रत की शुभकामनाएं ! हम आशा करते हैं कि भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा आप पर सदैव बनी रहे।
One thought on “हरतालिका तीज 2022 की तारीख व मुहूर्त , व्रत कथा , महत्व , पूजन विधि”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी। 
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते।।
 
ॐ एस्ट्रो के सभी पाठको को
शारदीय नवरात्रि और विजयादशमी
की हार्दिक शुभकामनाये ||

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

आपका हार्दिक स्वागत करता है ,

ॐ एस्ट्रो से अभी जुड़े 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.
%d bloggers like this: