बृहस्पति ग्रह
ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत बृहस्पति ग्रह को ‘गुरु’ की उपाधि दी गई है, ये बेहद शुभ और प्रभावकारी ग्रह है जो जातक के जीवन में धर्म, आस्था और सात्विकता का प्रतिनिधित्व करते हैं। शादी, विवाह आदि मंगलकारी और धार्मिक कर्मकांडों में गुरु की बेहद अहम भूमिका रहती है, ज्योतिषीय सिद्धांत के अनुसार गुरु के पीड़ित होने पर विवाहित जीवन में खलबली मचा जाती है, साथ ही यह जातक के चरित्र और व्यक्तित्व पर भी आधात करता है।

वैदिक ज्योतिष के नियम अनुसार जब कोई ग्रह सूर्य के नजदीक आ जाता है तो उसे अस्त माना लिया जाता है, आगामी 23 फरवरी, 2022 को बृहस्पति ग्रह अस्त होने जा रहे हैं, जिसका प्रभाव समस्त 12 राशियों पर पड़ेगा, जहां कुछ राशियां गुरु के अस्त होने पर फायदा उठाएंगी वहीं कुछ ऐसी भी हैं जिनपर इस स्थिति का नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इस लेख में हम उन्हीं राशियों के विषय में चर्चा करेंगे जिन्हें इस दौरान सावधान रहना होगा। बृहस्पति ग्रह 23 मार्च तक अस्त रहेंगे, इस दौरान कुछ राशियों को विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता है।

वृषभ राशि
ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत बृहस्पति ग्रह को सुख और संपत्ति का भी कारक माना गया है, इनका अस्त होना वृषभ राशि वालों को नुकसान पहुंचा सकता है। इस राशि के जातकों के बनते हुए काम भी बिगड़ने लगेंगे, मन किसी कारणवश अशांत भी रह सकता है। आपको ज्यादा मेहनत में भी न्यूनतम फल प्राप्त होंगे, लेकिन आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि यह अवधि बस कुछ दिनों की ही है। धीरज रखने में ही भलाई है। हर काम में सावधानी बरतेंगे तो लाभ अवश्य होगा।

कर्क राशि
वे जातक जो कर्क राशि से संबंध रखते हैं उनके लिए यह समय थोड़ा परेशान करने वाला साबित हो सकता है। किसी भी व्यक्ति पर आँख बंद कर विश्वास न करें, अगर आपका साझेदारी का व्यवसाय है तो आपको यही सलाह दी जाती है कि किसी भी कागज पर साइन करने से पहले उसे बहाली प्रकार से पढ़ लें, जरूरत पड़े तो किसी विश्वसनीय व्यक्ति से सलाह भी लें। इस दौरान नौकरीपेशा व्यक्तियों को ज्यादा समस्या झेलनी पड़ सकती है।

कन्या राशि


कन्या राशि के जातकों को यह समझ लेना चाहिए कि कोई बहुत ही नजदीकी व्यक्ति उनके माना-सम्मान को ठेस पहुंचाने का प्रयत्न कर सकता है, कारायस्थल पर आपकी छवि को आघात हो सकता है इसलिए कोई भी ऐसा काम ना करें जो दूसरे व्यक्ति की नजर में गलत हो। सतर्क रहने में भी भलाई है, आपको किसी से बहस या बाद-विवाद में भी नहीं पड़ना चाहिए।

कुंभ राशि
कुंभ राशि के जातकों के लिए आने वाला एक माह थोड़ा परेशान कर सकता है, आपको यह परेशानी पारिवारिक और व्यावसायिक, दोनों ही दृष्टिकोण से उठानी पड़ सकती है। आपके कार्यों में बाधा आ सकती है, जो आपके मानसिक रूप से निराश और हताश भी कर सकता है। गुरु का अस्त होना कुंभ राशि के लिए दुविधाओ का समय लेकर भी आ रहा है।

समय से प्रारंभ कर दें उपाय
ज्योतिषशास्त्र के अंतर्गत गुरु ग्रह की मजबूती के लिए विभिन्न उपायों का उल्लेख मिलता है। आपको नियमित रूप से बृहस्पति मंत्रों का उच्चारण करना चाहिए, अगर रोज ना भी कर पाएं तो गुरुवार के दिन तो यह कार्य अवश्य करें। इसके अलावा हर बृहस्पतिवार पीली वस्तुओं का दान और केले के पेड़ की जड़ में पानी भी अवश्य दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: