Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

February 7, 2023 19:20
Omasttro

अध्याय १ 

|| श्री गणेशाय नमः || 

पंचांग 

जो पांच अंगो ( चीजो ) से मिलकर बना हो वह पंचांग कहलाता है |

पांच अंगो के नाम निम्न है –

१ . तिथि , Tithi

२. वार , Vaar

३. नक्षत्र , Nakshtra

४. योग , Yog

५ . करण , Karan

आइये इन पांचो अंगो के बारे में विस्तार से जानते है |

१ . तिथि Tithi

तिथि १५  होती है , परन्तु तिथियों के नाम १६ है , ध्यान दे – १४ तिथिया एक जैसी चलती है , परन्तु शुक्ल पक्ष में पूर्णिमा और कृष्ण पक्ष में अमावस्या आती है |

हर एक तिथि का एक अपना स्वामी देव होता है !

 

 

 

 

तिथियों के नाम व स्वामी 

क्रमांक  नाम  स्वामी
प्रतिपदा अग्नि
द्वितीया ब्रह्मा
तृतीया गौरी
चतुर्थी गणेश
पंचमी शेषनाग
षष्ठी कार्तिक
सप्तमी सूर्य
अष्टमी शिव
नवमी दुर्गा
१० दशमी काल ( यमराज )
११ एकादशी विश्वेदेव
१२ द्वादशी विष्णु
१३ त्रयोदशी कामदेव
१४ चतुर्दशी शिव
१५ पूर्णिमा चंद्रमा
१६ अमावस्या पितर

  

ध्यान दे अभी आपने तिथियों के स्वामी के बारे में जाना है अब आप जानेंगे तिथियों के नाम |

तिथि नाम 
१ , ६ , ११ नंदा 
२ , ७ , १२ भद्रा 
३ , ८ , १३ जया 
४ , ९ , १४ रिक्ता 
५ , १० , १५ , ३० पूर्णा 

    

ध्यान दे -: पूर्णा तिथि में पूर्णिमा ( Purnima ) शुभ है व अमावस्या ( Amawasyaa ) अशुभ है | 

इस भाग में आपने जाना पंचांग के ५ अंगो के नाम व १ अंग तिथि के बारे में पूर्ण जानकारी 

आने वाले अगले भाग में आप वार के बारे में जानेंगे | 

OmAsttro के साथ  जुड़े रहने के लिए धन्यवाद !!

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code
%d bloggers like this: