Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

January 31, 2023 12:46
Omasttro

Whatever emotion a person remembers while leaving the body, he definitely attains that feeling.
अध्याय 8 : भगवत्प्राप्ति

श्लोक 8 . 6

यं_यं_वापि_स्मरन्भावं_त्यजत्यन्ते_कलेवरम् |
तं_तमेवैति_कौन्तेय_सदा_तद्भावभावितः || ६ ||

यम् यम् – जिस; वा अपि – किसी भी; स्मरन् – स्मरण करते हुए; भावम् – स्वभाव को; त्यजति – परित्याग करता है; अन्ते – अन्त में; कलेवरम् – शरीर को; तम् तम् – वैसा ही; एव – निश्चय ही; एति – प्राप्त करता है; कौन्तेय – हे कुन्तीपुत्र; सदा – सदैव; तत् – उस; भाव – भाव; भावितः – स्मरण करता हुआ |

भावार्थ

हे कुन्तीपुत्र! शरीर त्यागते समय मनुष्य जिस-जिस भाव का स्मरण करता है, वह उस उस भाव को निश्चित रूप से प्राप्त होता है |

तात्पर्य

यहाँ पर मृत्यु के समय अपना स्वभाव बदलने की विधि का वर्णन है | जो व्यक्ति अन्त समय कृष्ण का चिन्तन करते हुए शरीर त्याग करता है, उसे परमेश्र्वर का दिव्य स्वभाव प्राप्त होता है | किन्तु यह सत्य नहीं है कि यदि कोई मृत्यु के समय कृष्ण के अतिरिक्त और कुछ सोचता है तो उसे भी दिव्य अवस्था प्राप्त होती है | हमें इस बात पर विशेष ध्यान देना चाहिए | तो फिर कोई मन की सही अवस्था में किस प्रकार मरे? महापुरुष होते हुए भी महाराज भरत ने मृत्यु के समय एक हिरन का चिन्तन किया, अतः अगले जीवन में हिरन के शरीर में उनका देहान्तरण हुआ | यद्यपि हिरन के रूप में उन्हें अपने विगत कर्मों की स्मृति थी, किन्तु उन्हें पशु शरीर धारण करना ही पड़ा | निस्सन्देह मनुष्य के जीवन भर के विचार संचित होकर मृत्यु के समय उसके विचारों को प्रभावित करते हैं, अतः उस जीवन से उसका अगला जीवन बनता है | अगर कोई इस जीवन में सतोगुणी होता है और निरन्तर कृष्ण का चिन्तन करता है तो सम्भावना यही है कि मृत्यु के समय उसे कृष्ण का स्मरण बना रहे | इससे उसे कृष्ण के दिव्य स्वभाव को प्राप्त करने में सहायता मिलेगी | यदि कोई दिव्यरूप से कृष्ण की सेवा में लीन रहता है तो उसका अगला शरीर दिव्य (आध्यात्मिक) ही होगा, भौतिक नहीं | अतः जीवन के अन्त समय अपने स्वभाव को सफलतापूर्वक बदलने के लिए हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे | हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे का जप सर्वश्रेष्ठ विधि है |

आचार्य ओमप्रकाश त्रिवेदी

Whatever emotion a person remembers while leaving the body, he definitely attains that feeling.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

आपका हार्दिक स्वागत करता है ,

ॐ एस्ट्रो से अभी जुड़े 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.
%d bloggers like this: