Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

January 31, 2023 12:24
Omasttro

जून की महीने का आरंभ हो चुका है, इसी के साथ अब देशभर में गर्मी का प्रकोप अपने चरम पर जारी है। सूर्य देव का ताप इस कदर अपना कहर ढा रहा है कि मानो इस ग्रीष्म में हर जीव-जंतु बहाल है। बढ़ते गर्मी के कहर से सबसे अधिक उत्तरी भारत के राज्य परेशान है, जहाँ सतही भूमि का तापमान हाल ही में 45 डिग्री सेल्सियस से भी अधिक दर्ज किया गया।

भारत के उत्तर पश्चिम इलाकों में भी भीषण गर्मी का कहर देख न केवल वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है, बल्कि ज्योतिषी अब इस गर्मी से त्रस्त होकर वैदिक ज्योतिष विद्या की मदद से वर्षा ऋतु के आगमन का आंकलन कर रहे हैं। क्योंकि समस्त प्राणियों की तरह ही वे भी जानते हैं कि अब केवल इंद्र देव ही वर्षा ऋतु के माध्यम से सूर्य देव के इस प्रकोप से उनका बचव कर सकते हैं।

ज्योतिष विज्ञान में वर्षा होने के योग

भारत में वर्षा ऋतु प्रकृति हरियाली की चादर ओढ़े पृथ्वी को न केवल गर्मी से राहत दिलाती है, बल्कि भूमि में खाद्यान्न उत्पन्न भी करने में मददगार सिद्ध होती है। इसलिए वर्षा का महत्व समस्य मनुष्य जीवन के लिए अत्यंत विशेष है। वर्षा की इसी विशेषता को समझते हुए ज्योतिष विज्ञान में उत्तम वर्षा व वर्षा होने के संकेत अनेक योगों के रूप में सुझाए गए हैं।

वर्तमान में भले ही वर्षा और मौसम से संबंधित जानकारी मौसम विभाग अनेक नई मौसम वैज्ञानिक प्रणालियों की मदद से देता हो। परंतु पौराणिक काल में भारत में मौसम या वर्षा की सटीक जानकारी पाने के लिए ज्योतिष शास्त्र की गणना का प्रयोग किया जाता है। ज्योतिष शास्त्र का ये तरीका आज भी कई ज्योतिषी विशेषज्ञ अपनाते हुए वर्षा की भविष्यवाणी करते हैं और आज भी पंचांग की मदद से वर्षा के बनने वाले योग और सटीक समय बताते हैं।

वैज्ञानिक और ज्योतिषीय दोनों तरीकों से की जाती है वर्षा की भविष्यवाणी

वैज्ञानिकों का मानना है कि वर्षा वायु तथा बादलों का ही एक रूप है और आकाश मंडल में सभी बादलों को हवा ही संचालित करती है। इसलिए भी वायु का वर्षा करने में विशेष योगदान होता है। वायु न केवल बादलों को संचालित करती हैं, बल्कि इसका तूफानी रूप जंगलों, वृक्षों तथा पर्वत की शीलाओं को भी उखाड़ फेंकने का समर्थ रखता है।

जबकि ज्योतिष में वर्षा को आकृष्ट करने के लिए कई ज्योतिषी यज्ञ को बहुत महत्वपूर्ण मानते हैं। साथ ही उनके अनुसार सौमंडल में ग्रह-नक्षत्रों के संयुक्त होने के कारण वर्षा के मेघ उत्पन्न होते हैं। जिन्हें ज्योतिष विज्ञान के माध्यम से समझा जा सकता है। इस बात की जानकारी श्री नारद पुराण में मिलती है, जिसमें ज्योतिष के विभिन्न तत्वों का विस्तारपूर्वक वर्णन करते हुए, वर्षा के संबंध में और उसकी गणना को लेकर भी बताया गया है। तो आइये अब इस लेख के माध्यम से जानते हैं आखिर कैसे बनते हैं ज्योतिष में वर्षा के योग।

नक्षत्रों की वर्षा के योग में महत्वपूर्ण भूमिका

  • विशेष रूप से समस्त नक्षत्रों में से आर्द्रा, आश्लेषा, उत्तराभाद्रपद, पुष्य, शतभिषा, पूर्वाषाढ़ा एवं मूल नक्षत्रों को वरुण अर्थात जल के नक्षत्र के रूप में देखा जाता है।
  • इन नक्षत्रों में ही कुछ विशेष ग्रहों का योग बनने पर वर्षा की भविष्यवाणी की जा सकती है।
  • इसके अलावा पंचांग अनुसार यदि रोहिणी नक्षत्र का वास यदि समुद्र में हो तो, ये स्थिति घनघोर वर्षा के योग का निर्माण करेगी।
  • वहीं रोहिणी नक्षत्र का वास समुद्र तट पर होने की स्थिति में भी देशभर में वर्षा खूब होगी और देशवासियों को गर्मी से मुक्ति मिलेगी।
  • जब सूर्य पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में प्रवेश करें, तब यदि आकाश में बादल छाए हुए हो तो आद्र्रा से मूल पर्यन्त प्रतिदिन वर्षा देखने को मिलती है।
  • इसके अतिरिक्त जब सूर्य रेवती नक्षत्र में प्रवेश करें और उस अवधि में वर्षा हो जाए तो उससे दस नक्षत्र आगे यानी रेवती से अश्लेषा तक वर्षा नहीं होती है।

नवग्रहों की वर्षा के योग में महत्वपूर्ण भूमिका

  • यदि सूर्य ग्रह आद्र्रा से स्वाति नक्षत्र तक विचरण करें और इस दौरान चंद्रमा की स्थिति शुक्र से सप्तम भाव में हो, जबकि शनि से चन्द्रमा की स्थिति 5-7-9 भाव में से किसी भी भाव में हो तथा उस पर किसी अन्य शुभ ग्रह की पूर्ण दृष्टि हो तो, ये स्थिति भी वर्षा होने के प्रबल संकेत देगी।
  • इसके अलावा जब बुध और शुक्र किसी भी एक राशि में उपस्थित होते हुए युति बनाए और उन पर गुरु बृहस्पति की दृष्टि हो तो भी इस परिस्थिति में अच्छी वर्षा की उम्मीद की जा सकती है। परंतु इस दौरान यदि शनि या मंगल जैसा कोई क्रूर व उग्र ग्रह अपनी दृष्टि डाल रहा हो तो, इस स्थिति में वर्षा की उम्मीद नहीं की जाएगी।
  • एक अन्य परिस्थिति के अनुसार बुध और गुरु ग्रह गोचर करते हुए किसी एक राशि में युति करें और उन पर शुक्र की दृष्टि हो तो, ये योग भी अच्छी वर्षा होने के संकेत देंगे।
  • यदि बुध, गुरु एवं शुक्र तीनों शुभ ग्रह का एक ही राशि में युति करते हुए त्रिग्रह योग बनाना और उनपर किसी क्रूर ग्रह का दृष्टि करना महावर्षा का योग बनाएगा।
  • जबकि शुक्र के साथ शनि और मंगल एक राशि में उपस्थित होकर युति करें, और वहां उसी स्थिति में गुरु की दृष्टि उनपर पड़े तो, ये योग घनघोर वर्षा होने के संकेत देंगे।
  • ये भी देखा गया है कि सूर्य-गुरु या गुरु-बुध की एक राशि में युति बनें तो वर्षा तब तक नहीं रुकेगी जब तक बुध या गुरु में से कोई भी एक ग्रह अस्त न हो जाएं।
  • इसके अलावा गुरु- शुक्र की युति का बनना व उनपर बुध के साथ-साथ किसी क्रूर ग्रहों की दृष्टि का होना अति वृष्टि योग का निर्माण करत है। इसके परिणामस्वरूप वर्षा इतना विकराल रूप धारण करती है कि उससे भूस्खलन और बाढ़ जैसी परिस्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।

वायुमंडल की वर्षा के योग में महत्वपूर्ण भूमिका

  • वैदिक ज्योतिष की मानें तो वर्षा से संबंधित भविष्यवाणी के लिए वायुमंडल का विचार किया जाता है।
  • इस दौरान यदि वायु का रुख पूर्व तथा उत्तर की ओर हो तो इस स्थिति में शीघ्र वर्षा के संकेत मिलते हैं।
  • जबकि वायव्य दिशा में वायु का चलना तूफानी वर्षा के पीछे का कारण बनता है। बता दें कि उत्तर और पश्चिम दिशा के मध्य में वायव्य दिशा का स्थान होता है।
  • ईशान कोण के रुख की चलने वाली वायु भी हरियाली वाली वर्षा के संकेत देती है।
  • इसके अतिरिक्त श्रावण माह में पूर्व दिशा की और वादों में उत्तर दिशा की वायु का चलना सामान्य से अधिक वर्षा के योग बनाएगा।
  • जबकि शेष महीनों में पश्चिमी वायु का चलना भी वर्षा होने के संकेत देती है।

वर्षा का नक्षत्र कौन सा है?

आर्द्रा नक्षत्र वर्षा के लिए सबसे अनुकूल नक्षत्र माना जाता है। हिन्दू पंचांग अनुसार जब सूर्य देव अपना नक्षत्र गोचर करते हुए आर्द्रा नक्षत्र में प्रवेश कर जाते हैं तो, ये स्थिति वर्षा होने की संभावना बढ़ा देती है।

ऐसे में एस्ट्रोसेज के ज्योतिषी विशेषज्ञों के अनुसार, वर्ष 2022 में ग्रहों के राजा सूर्यदेव 22 जून 2022, बुधवार को आर्द्रा नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। सूर्यदेव इस नक्षत्र में अगले महीने यानी 6 जुलाई 2022, बुधवार तक रहेंगे उसके बाद आर्द्रा नक्षत्र से निकलकर पुनर्वसु नक्षत्र में चले जाएंगे। इसलिए सूर्य देव का लगभग 15 दिनों तक आर्द्रा नक्षत्र में रहना, भारत में मानसून होने के योग को बल देगा। इससे वातावरण में नमीं और हरियाली बढ़ेगी, साथ ही गर्मी का ताप कम होते हुए मौसम में शीतलता का अहसास भी होगा। क्योंकि माना जाता है कि आर्द्रा नक्षत्र में आने पर सूर्य का प्रभाव काफी कम हो जाता है और आकाश में बादलों का प्रभाव तेजी से बढ़ने लगता है। इस नक्षत्र के स्वामी राहु होते हैं, जिसके कारण भी यहाँ सूर्य का प्रभाव कम होता है। इसलिए ये कहा जा सकता है कि आर्द्रा नक्षत्र में सूर्य का 22 जून से 06 जुलाई 2022 तक उपस्थित होना, देशभर में वर्षा यानी मानसून होने की संभावना दर्शा रहा है।

नोट: दोस्तों इन परिस्थितियों के अलावा भी जैसे आकाशमंडल में चन्द्रमा के होते हुए बिजली का चमकना या मेंढको का एकसाथ आवाज़ लगाते रहना भी वर्षा होने की भविष्यवाणी करता है। ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि उपरोक्त दिए गए योगों के अतिरिक्त भी अनेक ग्रह-नक्षत्रों के संयोग से वर्षा से संबंधित संकेत दिए जा सकते हैं।

—————————————————————————————————————————————————

शनि को छोड़ गुरु के साथ मंगल की युति से देश-दुनिया में आएंगे बड़े बदलाव।

वैदिक ज्योतिष में मंगल ग्रह को भूमि, सेना, पराक्रम, ऊर्जा, आदि का कारक प्राप्त है। राशि चक्र की समस्त राशियों में से मेष और वृश्चिक राशि के स्वामी ग्रह मंगल होते हैं। इसके अलावा जहाँ मकर राशि में मंगल उच्च के तो कर्क में ये नीच के होते हैं।

अब हाल ही में 17 मई 2022, मंगलवार के दिन लाल ग्रह मंगल अपना गोचर करते हुए कुंभ से निकलकर अपने मित्र ग्रह गुरु बृहस्पति की मीन राशि में विराजमान हुए हैं। जो अब इस स्थिति में 27 जून, सोमवार की सुबह 5 बजकर 39 मिनट तक रहेंगे। ऐसे में मंगल का मीन में अन्य ग्रहों के साथ उनकी ख़ास युति का निर्माण करते हुए, देश-दुनिया पर खासा प्रभाव डालेगा। तो चलिए अब डालते हैं मंगल की इस स्थिति पर एक नज़र:-

  1. शनि का साथ छोड़ गुरु के साथ युति करेंगे मंगल
  • मंगल के मीन में राशि परिवर्तन से उनका मिलन वहां पहले से मौजूद गुरु के साथ होगा। जिसके चलते मीन राशि में मंगल-गुरु शुभ युति का निर्माण करेंगे। ज्योतिष में गुरु-मंगल की युति को शुभ योगों की श्रेणी में रखा गया है।
  • इसके अलावा कुंभ से निकलकर मीन में मंगल का गोचर होने से कुंभ में शनि-मंगल की युति से बनने वाला अशुभ योग भी खत्म होगा।
  • मंगल का यूं युति करना व उनका प्रभाव सीधे तौर पर करीब-करीब सभी राशियों को किसी न किसी रूप से प्रभावित करने वाला है।

  1. मंगल के गोचर से इन राशियों का होगा भाग्योदय
  • एस्ट्रोसेज के वरिष्ठ विशेषज्ञों की मानें तो मंगल का मीन में गोचर सबसे अधिक वृषभ राशि, तुला राशि, मकर राशि और मीन राशि के जातकों के लिए खासा शुभ रहने वाला है।
  • इस गोचर के परिणामस्वरूप इन चारों ही राशि के जातकों को अपने कार्यक्षेत्र पर (फिर चाहे वे नौकरीपेशा हो या व्यापार से जुड़े हो) अच्छा प्रदर्शन देते हुए सफलता अर्जित करने के कई सुनहरे मौके मिलने वाले हैं।
  • प्रमोशन या व्यापार में विस्तार का सोच रहे जातकों को भी भाग्य का साथ मिलेगा।
  • यदि घर के किसी सदस्य या किसी करीबी मित्र व परिजन से कोई विवाद चल रहा था तो, वो भी खत्म होने की संभावना अधिक रहने वाली है।
  • धन पक्ष के लिहाज़ से भी स्थिति पहले से बेहतर होती प्रतीत होगी।
  • स्वास्थ्य जीवन में भी सकारात्मक बदलाव आएंगे, जिससे आप अच्छी सेहत का खुलकर आनंद लेते दिखाई देंगे।
  1. इन राशियों को मिलेंगे कर्मों के अनुसार फल
  • ज्योतिषचार्यों के अनुसार मंगल का ये गोचर मिथुन, कर्क, कन्या और वृश्चिक राशि के लिए औसत परिणाम लेकर आने वाला है।
  • इसके परिणामस्वरूप ये चारों ही राशि के जातकों को इस दौरान अपनी मेहनत के अनुसार ही फल मिलने वाले हैं।
  • इसलिए इन्हें इधर-उधर की बातों में अपना समय बर्बाद न करते हुए, खुद को अपने लक्ष्यों के प्रति केंद्रित रखने की सलाह दी जाती है।
  • हालांकि गुरु-मंगल की शुभ युति व दृष्टि कुछ क्षेत्रों में आपको सामान्य से बेहतर फल देने के योग भी बनाएगी।
  1. इन राशियों को रहना होगा सावधान
  • मीन राशि में मंगल के गोचर करते ही खासतौर से मेष, सिंह, धनु और कुंभ राशि वाले जातकों को सावधान रहने की सलाह दी जाती है।
  • क्योंकि ये गोचर सबसे अधिक इन चार राशियों के जातकों को कार्यक्षेत्र से जुड़े कुछ प्रतिकूल परिणाम दे सकता है।
  • इससे मानिसक व शारीरिक तनाव में वृद्धि के साथ-साथ इन जातकों को बेचैनी से भी दो-चार होना पड़ेगा।
  • ये समयावधि इनका किसी अन्य के साथ कोई बड़ा विवाद भी करवा सकती है।
  • साथ ही इन्हें आर्थिक तंगी से जुड़ी भी भी परेशानी संभव है।
  1. अशुभ प्रभाव से बचने के लिए कारगर व सरल उपाय

अब बात करते हैं उन कारगर उपायों को जिन्हें अपनाकर जातक अपनी कुंडली में मंगल के अशुभ प्रभाव या मंगल दोष से काफी हद तक बच सकते हैं:-

  • नियमित रूप से किसी ज़रूरी कार्य के लिए निकलते समय घर से शहद खाकर ही जाएं।
  • अपने माथे पर लाल चंदन का तिलक करें।
  • हर मंगलवार हनुमान जी की पूजा करें और उन्हें लाल सिंदूर लगाएं व प्रसाद भेट करें।
  • मंगलवार के दिन किसी भी तांबे के बर्तन में अपनी श्रद्धानुसार अनाज डालकर किसी भी हनुमान मंदिर में दान करें।
  • घर की छत पर मिट्‌टी के बर्तन में पक्षियों के लिए दाना व पानी रखें।
  • गरीब व ज़रूरतमंदों में लाल दाल व बूंदी का दान करें।

  1. महंगाई को लेकर omasttro की भविष्यवाणी
  • मंगल का ये गोचर भारत में तांबे, सोने व चांदी की कीमतों में बढ़ोतरी कर सकता है।
  • इसके अलावा रुई, लकड़ी, गुड़, कपड़े, प्लास्टिक और रसायनिक चीजों की कीमतों में भी अच्छा-खासा इजाफ़ा देखने को मिलेगा।
  • मंगल देव शेयर बाजार में भी उतार-चढ़ाव के बाद तेजी लाने के योग बनाएंगे।
  • दुनियाभर में मशीनरी व उद्योग जगत में भी महंगाई दिखाई देगी।
  • हालांकि मंगल देव का प्रभाव भारत के साथ-साथ कुछ अन्य देशों में खाद्य पदार्थों की कीमतों में गिरावट करते हुए, वहां की जनता को कुछ राहत भी देगा।
  1. देश-दुनिया को लेकर omasttro की भविष्यवाणी
  • लाल ग्रह के कारण दुनियाभर में किसी प्रकार की हवाई, पानी या अस्त्र शस्त्र से जुड़ी कोई बड़ी दुर्घटना होने की आशंका अधिक रहने वाली है।
  • भारत के कुछ राज्यों में तेज हवा व बारिश संभव है।
  • इस दौरान दुनिया में भूकंप या अन्य कोई बड़ी प्राकृतिक आपदा भी देखी जाएगी।
  • किसी देश में सरकार में फेरबदल भी संभव है।
  • सेना और पुलिस विभाग की कार्यवाही से जुड़े मामले सामने आएंगे।
  • इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा Omasttro के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

    Leave a Reply

    error: Content is protected !!
    Join Omasttro
    Scan the code

    Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

    आपका हार्दिक स्वागत करता है ,

    ॐ एस्ट्रो से अभी जुड़े 

    You have successfully subscribed to the newsletter

    There was an error while trying to send your request. Please try again.

    Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.
    %d bloggers like this: