मार्गशीर्ष माह में शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी कहते हैं। अपने पितृों को मोक्ष की प्राप्ति के लिए इस एकादशी का व्रत किया जाता है। वहीं 14 दिसंबर 2021, दिन मंगलवार को मोक्षदा एकादशी व्रत रखा जाएगा। मान्यता के अनुसार, मोक्षदा एकादशी व्रत के प्रभाव से मनुष्य के पूर्वजों को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

और व्रती को मृत्यु के उपरांत स्वर्गलोग प्राप्त होता है। इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से हमारी मनोकामना पूर्ण होती हैं। वहीं आप भी मोक्षदा एकादशी के दिन कुछ उपाय कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं मोक्षदा एकादशी के उपायों के बारे में…

धन और समृद्धि के लिए करें इस मंत्र का जाप

ओम भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि।
ओम भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।


विष्णु गायत्री मंत्र: सुख और शांति के लिए करें जाप

ऊं नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।
श्री विष्णु भगवते वासुदेवाय मंत्र
ओम नमोः भगवते वासुदेवाय॥

विष्णु कृष्ण अवतार मंत्र:

श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे।
हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।



विष्णु रूपं पूजन मंत्र

शांताकारम भुजङ्ग शयनम पद्म नाभं सुरेशम्।
विश्वाधारं गगनसद्र्श्यं मेघवर्णम शुभांगम्।
लक्ष्मी कान्तं कमल नयनम योगिभिर्ध्यान नग्म्य्म।
वन्दे विष्णुम भवभयहरं सर्व लोकेकनाथम्।

मंगल श्री विष्णु मंत्र

मङ्गलम् भगवान विष्णुः, मङ्गलम् गरुणध्वजः।
मङ्गलम् पुण्डरीकाक्षः, मङ्गलाय तनो हरिः॥



यहां बता दें कि विष्णु जी के इन मंत्रों का जाप करने से पहले उनकी पूजा जरूर करनी चाहिए। विष्णु जी के आगे जो दीपक जलाया जाता है उमें घी का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। मंत्र जाप के लिए ध्यान केंद्रित होगा भी आवश्यक है।

मनोकामना पूर्ति के लिए आप मोक्षदा एकादशी के दिन आप भगवान विष्णु की पीले रंग के फूलों से पूजा अवश्य करें। इससे आपकी प्रत्येक मनोकामना पूरी हो सकती है। पीले रंग के फूल जगत के पालनहार भगवान श्रीहरि विष्णु जी को बेहद ही प्रिय हैं।



वहीं कर्ज मुक्ति के लिए एकादशी तिथि पर पीपल के वृक्ष की जड़ में जल अर्पित करें। शास्त्रों के मुताबिक, पीपल में भगवान विष्णु का वास माना जाता है। ऐसा करने से आपको कर्ज से मुक्ति मिलती है। साथ ही आपको धन लाभ भी होता है और आपकी आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर हो जाती है।



भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए आप मोक्षदा एकादशी के दिन पीले रंग के फल, कपड़े और अनाज भगवान विष्णु जी को अर्पित करें। पूजा के बाद आप इन सभी चीजों को गरीब लोगों में बांट दें। ऐसा करने से आपको भगवान विष्णु जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।



परिजनों के सुखी जीवन के लिए एकादशी से अगले दिन अर्थात द्वादशी तिथि पर भगवान विष्णु को खीर का भोग लगाएं। वहीं आप इस दिन खीर में तुलसी के पत्ते डालकर भी भगवान विष्णु को अर्पित कर सकते हैं। ऐसा करने से आपके घर में भगवान विष्णु की कृपा से शांति बनी रहेगी और परिजनों के बीच प्रेम और भाईचारा बना रहता है।



घर में सुख और शांति के लिए एकादशी के दिन शाम के समय तुलसी के पास गाय के शुद्ध घी का दीपक जला दें और ‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नम:’ मंत्र का जाप करें। तथा इसी मंत्र का जप करते हुए तुलसी की कम से कम 11 परिक्रमा करें। ऐसा करने से घर में सुख-शांति का वातावरण बना रहता है। तथा भगवान की कृपा से घर में किसी भी प्रकार का कोई संकट नहीं आता है।



वहीं गाय में सभी देवी-देवताओं का वास होता है। भगवान विष्णु की विशेष कृपा पाने के लिए आप इस मोक्षदा एकादशी के दिन गायों की सेवा करें और उन्हें गुड़-चना तथा हरा चारा खिलाएं। तथा गायों को गर्म वस्त्र ओढ़ा दें। ऐसा करने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा की प्राप्ति होती है। साथ ही ऐसे लोगों के घर में धन -धान्य की वृद्धि होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: