मूल नक्षत्र का फल

मूल नक्षत्र का चिह्न

वैदिक ज्योतिष के अनुसार मूलनक्षत्र का स्वामी केतु ग्रह है। यह जड़ों के बांधे हुए गुच्छे की तरह दिखायी देता है। इस नक्षत्र निर्चर और लिंग स्री है। यदि आप मूलनक्षत्र से संबंध रखते हैं, तो उससे जुड़ी अनेक जानकारियाँ जैसे व्यक्तित्व, शिक्षा, आय तथा पारिवारिक जीवन आदि यहाँ प्राप्त कर सकते हैं।

मूल नक्षत्र के जातक का व्यक्तित्व

आप मीठे स्वभाव के और शांतिप्रिय व्यक्ति हैं। न्याय के प्रति आपका पूर्ण विश्वास है। लोगों के साथ आपके सम्बन्ध मधुर हैं और आपकी प्रकृति मिलनसार है। स्वास्थ्य के मामले में आप भाग्यशाली हैं, क्योंकि आपकी सेहत ज़्यादातर ठीक रहती है। आप मज़बूत व दृढ़ विचारों के स्वामी हैं। सामाजिक कार्यों में आप बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। अपने गुणों एवं कार्यो से आप काफ़ी ख्याति प्राप्त करते हैं। आपके जीवन के कुछ बंधे-बंधाये नियम होते हैं। किसी भी विपरीत स्थिति का सामना करने में आप सक्षम हैं और मुश्किलों को भेद कर अंत में मंज़िल प्राप्त कर लेते हैं। एक बार जो दृढ़ संकल्प कर लें तो आप उसे पूरा करके ही छोड़ते हैं। आपको न तो आने वाले कल की चिंता होती है और न आप कठिनाइयों की कोई परवाह करते हैं। ईश्वर पर आपकी पूर्ण आस्था है इसलिए आप सब कुछ ईश्वर पर छोड़ देते हैं। दूसरों को आप अच्छी सलाह देंगे, परन्तु ख़ुद अपने मामलों में लापरवाह रहेंगे। अपनी आजीविका में आप पूरी ईमानदारी बरतते हैं; साथ ही आपका मन प्राय: अशांत रह सकता है। अनेक मामलों के आप जानकर भी हैं व लेखन, कला तथा सामाजिक क्षेत्र में विशेष सफलता प्राप्त कर सकते हैं। दोस्तों के साथ दरियादिली का व्यवहार कभी-कभी आपको आर्थिक संकट में भी डाल देता है। आय से अधिक ख़र्च करना आपकी आदत में शुमार है। आपकी प्रतिभा व भाग्य जन्म स्थल से दूर अधिक चमकेगा। अगर कभी आपको विदेश जाने का अवसर मिले तो वहाँ जाकर बहुत लाभ प्राप्त होगा। अपना भविष्य आप ख़ुद लिखेंगे, भले ही परिवार का समर्थन आपको प्राप्त हो या न हो। आपके कई मित्र हैं क्योंकि आप वफ़ादार हैं। पढ़ने-लिखने में आप अच्छे हैं और दर्शन शास्त्र में आपकी विशेष रुचि है। आप आदर्शवादी और अपने नियमों पर चलने वाले हैं। अगर आपके सामने ऐसी स्थिति आ जाए कि जब धन और सम्मान में से एक को चुनना हो तब आप धन की जगह सम्मान को चुनना पसंद करते हैं। आप व्यवसाय एवं नौकरी दोनों में ही सफल होंगे, परंतु व्यवसाय की अपेक्षा नौकरी करना आपको अधिक पसंद है। आप जहाँ भी जाते हैं अपने क्षेत्र में सर्वोच्च होते हैं। शारीरिक श्रम की अपेक्षा दिमाग़ का प्रयोग करके अपना काम निकालना आपको ख़ूब आता है। अध्यात्म में विशेष रुचि होने के कारण धन का लोभ आपके अंदर नहीं है। समाज में पीड़ित लोगों की सहायता के लिए आप कई कार्यक्रमों में भाग लेते हैं और इससे आपको काफ़ी सम्मान मिलता है। समाज के उच्च वर्गों से आपकी मित्रता है। आपका सांसारिक जीवन ख़ुशियों से भरा हुआ है और सुख-सुविधाओं से युक्त जीवन जीने में आपको आनंद आता है।

शिक्षा और आय

आप औषधि निर्माता, दंत-चिकित्सक, मंत्री, प्रवचनकर्ता, ज्योतिषी, पुलिस अधिकारी, गुप्तचर, न्यायधीश, सैनिक, शोधकर्ता, जीवाणुओं पर अनुसंधान करने वाले, खगोल शास्त्री, व्यवसायी, नेता, गायक, परामर्शदाता, औषधि या जड़ी-बूटी के व्यापारी, अंग-रक्षक या सुरक्षाकर्मी, पहलवान, राजनेता, गणितज्ञ या कंप्यूटर विशेषज्ञ, मनोचिकित्सक, कोयला या पेट्रोलियम से जुड़े कार्य करके सफल हो सकते हैं।

पारिवारिक जीवन

आप स्वनिर्मित व्यक्ति हैं इसलिए परिवार से कोई लाभ मिले या नहीं – इसकी चिंता आपको नहीं रहती है। आपका विवाहित जीवन प्राय: संतोषजनक रहेगा। आपके जीवनसाथी में एक अच्छे सहयोगी के सभी गुण मौजूद हैं।

One thought on “मूल नक्षत्र”
  1. Nice read, I just passed this onto a colleague who was doing a little research on that. And he just bought me lunch as I found it for him smile So let me rephrase that: Thanks for lunch!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: