ज्योतिष में कुछ ग्रहों को मित्र ग्रहों का दर्जा दिया गया है तो वहीं कुछ ग्रह ऐसे भी हैं जो आपस में शत्रुता के संबंध रखे नजर आते हैं। आज अपने विशेष ब्लॉग में हम ऐसे ही दो मित्र ग्रह बुध और शनि के बारे में बात करेंगे जो जून के महीने में 2 दिनों के भीतर ही 2 अहम परिवर्तन करके सभी 12 राशियों के जीवन में बड़े और महत्वपूर्ण बदलाव लेकर आने वाले हैं।


साथ ही जानेंगे इन मित्र ग्रहों का यह अहम परिवर्तन किन राशियों के लिए शुभ रहेगा और किन्हे इन परिवर्तनों से सावधान रहने की आवश्यकता पड़ेगी और साथ ही जानेंगे बुध ग्रह और शनि ग्रह को प्रसन्न करके इनके सकारात्मक प्रभाव को बढ़ाने के कुछ ज्योतिषीय उपाय क्या कुछ किए जा सकते हैं।

old age pension old age pension

तो आइए अब आगे बढ़ते हैं और सबसे पहले जान लेते हैं कि बुध और शनि का यह अहम परिवर्तन कब कब होने वाला है।

दो अहम ग्रहों का विशेष परिवर्तन अपने लिए कैसे बनाएँ खास? विद्वान ज्योतिषियों से फोन पर बात करके जानें जवाब

2 दिन में 2 मित्र ग्रहों का अहम परिवर्तन
इन दो में से जो पहला परिवर्तन होगा वह होगा 3 जून को जिसमें बुध ग्रह वृषभ राशि में मार्गी हो जाएंगे। मार्गी होने का अर्थ है उल्टी गति से वापस सीधी गति में चलना और समय की बात करें तो बुध ग्रह 3 जून 2022, शुक्रवार को दोपहर 1 बजकर 07 मिनट पर अपनी वक्री गति समाप्त करते हुए पुनः मार्गी अवस्था में आ जाएंगे।

इसके बाद दूसरा अहम परिवर्तन होगा शनि ग्रह का जो कि 5 जून को कुंभ राशि में वक्री होने जा रहे हैं। इनके समय की बात करें तो शनि कुंभ राशि में वक्री 5 जून 2022, रविवार को सुबह 4:14 बजे होंगे।

ग्रहों के बाद बात करें इन दोनों राशियों की तो जहां वृषभ को एक स्थित राशि चिन्ह माना गया है वहीं कुंभ राशि हर समय बदलाव की तलाश में रहती है। इसके अलावा जहां एक राशि पृथ्वी तत्व की है तो वहीं दूसरी राशि वायु तत्व की है। इसके अलावा वृषभ को एक भौतिकवादी राशि के रूप में देखा जाता है और कुंभ एक आदर्शवादी राशि चिन्ह है।

2 दिन में 2 अहम परिवर्तन किसका बदलेंगे जीवन?
ज्योतिष में जहां एक तरफ बुध ग्रह को बुद्धि, वाणी और तार्किक सोच, विश्लेषण आदि का कारक माना जाता है वहीं दूसरी तरफ शनि ग्रह को कर्मफलदाता ग्रह के रूप में देखा जाता है। अर्थात शनि ग्रह व्यक्ति को आपके कर्मों के अनुसार फल देने के लिए जाना जाता है। अब जानते हैं कि इन दो अहम ग्रहों का महत्वपूर्ण परिवर्तन किन राशि के जातकों का जीवन बदलने वाला है।

मेष राशि: बुध ग्रह का मार्गी होना और शनि का वक्री होना मेष राशि के जातकों के लिए बेहद ही सुखद समय रहने वाला है। इस दौरान आपको आपके परिवार के लोगों का सहयोग प्राप्त होगा। साथ ही कोई पुराना विवाद सुलझ सकता है। भाई बहनों के बीच सौहार्दपूर्ण रिश्ते बने रहेंगे। साथ ही नौकरी, करियर और व्यवसाय में भी सफलता मिलेगी। आर्थिक पक्ष भी शानदार रहेगा।

मिथुन राशि: मित्र ग्रह बुध और शनि का यह अहम परिवर्तन मिथुन राशि के जातकों के लिए भी बेहद शुभ साबित होगा। इस दौरान आपको किसी अनजान व्यक्ति का सहयोग प्राप्त होगा और किसी पुरानी स्वास्थ्य संबंधित समस्या से छुटकारा मिलेगा। इसके अलावा आपको इस अवधि में भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा जिससे जिसके दम पर आप कड़ी मेहनत करके अपने जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

धनु राशि: शनि का वक्री होना और बुध का मार्गी होना धनु राशि के जातकों के लिए भी अनुकूल परिणाम लेकर आएगा। इस दौरान आपको आपके भाई बहनों का सहयोग प्राप्त होगा। इसके अलावा जो छात्र सरकारी नौकरी के लिए तैयारी कर रहे हैं उनके लिए भी यह समय अनुकूल रहने वाला है। पहले से नौकरीपेशा जातकों को कार्य क्षेत्र में सफलता और प्रमोशन के योग बनेंगे। इसके अलावा कुछ विवाहित जातक को अपने संतान पक्ष की तरफ से कोई बड़ी खुशखबरी भी प्राप्त हो सकती है।

कुंभ राशि: इसके अलावा बुध का मार्गी होना और शनि का वक्री होना कुंभ राशि के जातकों के लिए शुभ रहने वाला है। जिसके परिणामस्वरूप इस राशि के जातकों को करियर के संबंध में शुभ अवसर प्राप्त होंगे और छात्र जातकों को भी अच्छे परिणाम मिलने के शुभ अवसर बन रहे हैं। नौकरी पेशा जातकों को कार्यक्षेत्र में मान सम्मान और प्रसिद्धि मिलेगी। old age pension मे लाभ होगा , व्यापारी जातकों को ढेरों लाभदायक अवसर प्राप्त होंगे। साथ ही कहीं अटका हुआ धन आपको वापस भी मिलने वाला है।

इन राशियों के जीवन में आ सकती है कुछ परेशानियां
शुभ फल प्राप्त करने वाली राशियों के बाद बात करें इन परिवर्तनों से किन राशियों को सावधान रहने की आवश्यकता है तो वह हैं वृषभ राशि, सिंह राशि, वृश्चिक राशि, और कर्क राशि।

old age pension

इस समय अवधि में इन 4 राशियों के जातकों के जीवन में अलग-अलग मोर्चों पर तमाम समस्याएं आने की आशंका है। साथ ही आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की पहले की सलाह दी जाती है। इसके अलावा अपने प्रतिद्वंद्वियों और विरोधियों से भी सतर्क रहना आप के लिए इस समय की जरूरत बन सकता है।


बुध और शनि ग्रह को इन ज्योतिषीय उपायों से करें मजबूत
जिन राशियों को इन परिवर्तन से नकारात्मक परिणाम मिलने वाला है उन्हें भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। यहां हम जान लेते हैं बुध और शनि ग्रहों को किन ज्योतिषीय उपायों से मजबूत किया जा सकता है। जिससे आप भी इन ग्रहों के अनुकूल प्रभाव अपने जीवन पर प्रत्यक्ष रूप से पड़ते देख सकेंगे।

भगवान गणेश की पूजा करके बुध ग्रह को मजबूत किया जा सकता है।
इसके अलावा बुध ग्रह से संबंधित मंत्र का रोजाना या कम से कम बुधवार के दिन 108 बार जाप अवश्य करें।
इसके अलावा बुध ग्रह को मजबूत करने के लिए बहुत से लोग पन्ना रत्न भी धारण करते हैं। हालांकि हमारी सलाह यही है कि कोई भी रत्न विद्वान ज्योतिषियों से परामर्श लेने के बाद ही धारण करें। इसके अलावा आप चाहें तो बुधवार के दिन बुध की होरा में मूंग की दाल का जरूरतमंद लोगों को दान करें। इससे भी आपको बुध ग्रह के शुभ परिणाम मिलने लगेंगे।
बात करें शनि ग्रह की तो शनि देव की प्रसन्नता हासिल करने के लिए हनुमान भगवान की पूजा करें।
इसके अलावा हनुमान चालीसा का पाठ करें।
शनि मंत्रों का स्पष्ट उच्चारण पूर्वक जप करें।
तिल, तेल और छायापात्र दान करें। इससे भी शनिदेव की प्रसन्नता हासिल की जा सकती है।
धतूरे की जड़ धारण करें। यहां पर भी विशेषज्ञ जानकारों से परामर्श लेकर ही कोई भी चीज़ या रत्न धारण करें। ऐसी सलाह हम आपको पहले ही देते हैं।


इसी आशा के साथ कि, आपको यह लेख भी पसंद आया होगा omasttro के साथ बने रहने के लिए हम आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: