Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

February 7, 2023 19:37
Omasttro

हिंदू धर्म के अनुसार भगवाग शिव का सबसे प्रिय माह सावन 25 जुलाई से आरंभ हो चुका है. सावन का यह माह धार्मिक दृष्टि से बेहद ही खास माना जाता है. सावन के इस महीने में भगवान शिव की पूजा अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती है. कहते हैं कि सावन के महीने में शिव की पूजा और उपासना करने से विवाह में आ रही सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं.

इसी के साथ लंबी उम्र का वरदान भी प्राप्त होता है. हिंदू धर्म के पंचाग के अनुसार हर महीने कृष्ण पक्ष के 14वें दिन को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है. तो चलिए जानते हैं कि सावन में पड़ने वाली शिवरात्रि का कितना महत्व है और इस शुभ मुर्हूत कब है.

साल में 12 शिवरात्रि मनाई जाती है


हिंदू शास्त्रों के अनुसार साल में 12 शिवरात्रि मनाई जाती है. लेकिन, इन 12 शिवरात्रियों में से 2 शिवरात्रि का सबसे ज्यादा महत्व माना जाता है. यह तो आप सभी जानते हैं कि फाल्गुन मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है और सावन महीने में पड़ने वाली शिवरात्रि का व्रत रखा जाता है.

इस बार हिंदू पंचांग के अनुसार, सावन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि का शिवरात्रि क व्रत रखा जाता है. इस बार सावन शिवरात्रि 7 अगस्त दिन शनिवार को मनाई जाएगी. 7 अगस्त की सुबह सबसे पहले शिवलिंग पर जल अर्पित करें. इस दिन भागवान शिव और उनके परिवार की पूजा की जाती हैं.


सावन शिवरात्रि शुभ मुहूर्तः-


शिवरात्रि के दिन व्रत, उपासना, मंत्रजाप तथा रात्रि जागरण का विशेष महत्व है. कहते हैं कि इस दिन भगवान शिव के साथ मां गौरी की पूजा करने से वैवाहिक जीवन की सभी समस्याएं समाप्त हो जाती है. सावन माह की चतुर्दशी तिथि 6 अगस्त, 2021 को शाम 6 बजकर 28 मिनट से शुरू होकर 7 अगस्त शाम 7 बजकर 11 मिनट पर समाप्त होगी. उदय तिथि के अनुसार, 7 अगस्त की सुबह के समय शिवरात्रि तिथि आरंभ होगी.

शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गंगाजल और दूध से अभिषेक जरूर करें. इसी के साथ आटे के 11 शिवलिंग बनाकर हर एक शिवलिंग का 108 बार अभिषेक करें और ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें. ऐसा करने से संतान प्राप्ति की समस्याएं दूर होंगी. विवाह संबंधी समस्याओं के निवारण के लिए शिवरात्रि के दिन गुलाब के फूलों की माला से शिवलिंग के साथ मां गौरी का गठबंधन करें. ऐसा करने से विवाह संबंधी सभी समस्याएं समाप्त होंगी.


बताते चले कि धर्म गुरु के अनुसार किसी भी निर्धन व्यक्ति या कन्याओं को दूध दान करें. ऐसा करने से मानसिक तनाव दूर होगा साथ ही कुंडली का चंद्रमा शुभ फल देने लग जाएगा.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code
%d bloggers like this: