माना जाता है कि प्रकृति भी शनि देव के शुभ-अशुभ प्रभाव के लक्षण व्यक्ति को जरूर देती है। आज हम आपको बताएंगे कि बुरे दिन आने से पहले शनि देव किस तरह के संकेत देते हैं।
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि की साढ़ेसाती अथवा ढैय्या में जीवन में बदलाव अवश्य आता है। कहा जाता है कि यह बदलाव अच्छा होगा या बुरा, ये आपकी जन्म कुंडली तय करेगी। आइये जानते हैं कि बुरे दिन आने से पहले शनि देव के संकेत….

प्रॉपर्टी संबंधित विवाद

भाइयों से विवाद और परिवार के सदस्यों के साथ मनमुटाव

अनैतिक संबंधों में फंसना

बहुत ज्यादा कर्ज होना और उसे उतारने में असमर्थ होना

कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाना


किसी अच्छी जगह से अनचाही जगह पोस्टिंग होना

प्रमोशन में बाधा

हर समय झूठ का सहारा लेना

बुरी लत लगना

व्यापार या व्यवसाय में मंदी आना

नौकरी से निकाला जाना

अगर आपको भी इस तरह के संकेत मिल रहे हैं तो शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की विधि-विधान से पूजा करें। रविवार को छोड़कर आप किसी दिन भी पीपल के पेड़ की पूजा कर सकते हैं।

पीपल की पेड की पूजा करने के लिए सूर्योदय से पहले जागें और नित्यक्रिया करने के बाद स्नान कर लें और सफेद वस्त्र धारण कर किसी ऐसे स्थान पर जाएं, जहां पीपल का पेड़ हो। वहां पीपल की जड़ में गाय का दूध, तिल और चंदन मिलाकर पवित्र जल अर्पित करें और धूप दीप जलाकर इस मंत्र का जाप करें

मूलतो ब्रह्मारूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे
अग्रतः शिवरूपाय वृक्ष राजाय ते नमः
आयु: प्रजां धनं धान्यं सौभाग्यं सर्वसंपदम्
देहि देव महावृक्ष त्वामहं शरणं गत:

इस मंत्र का जप करने के पश्चात कपूर और लौंग जलाकर आरती करें, उसके बाद प्रसाद ग्रहण करें। पीपल के जड़ में अर्पित थोड़ा सा जल घर ले आयें और उसे घर में छिड़क दें। अगर आप इस तरह पीपल के पेड़ की पूजा करते हैं तो शनि के प्रकोप से मुक्ति मिल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: