Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

February 7, 2023 23:05
Omasttro

माना जाता है कि प्रकृति भी शनि देव के शुभ-अशुभ प्रभाव के लक्षण व्यक्ति को जरूर देती है। आज हम आपको बताएंगे कि बुरे दिन आने से पहले शनि देव किस तरह के संकेत देते हैं।
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि की साढ़ेसाती अथवा ढैय्या में जीवन में बदलाव अवश्य आता है। कहा जाता है कि यह बदलाव अच्छा होगा या बुरा, ये आपकी जन्म कुंडली तय करेगी। आइये जानते हैं कि बुरे दिन आने से पहले शनि देव के संकेत….

प्रॉपर्टी संबंधित विवाद

भाइयों से विवाद और परिवार के सदस्यों के साथ मनमुटाव

अनैतिक संबंधों में फंसना

बहुत ज्यादा कर्ज होना और उसे उतारने में असमर्थ होना

कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाना


किसी अच्छी जगह से अनचाही जगह पोस्टिंग होना

प्रमोशन में बाधा

हर समय झूठ का सहारा लेना

बुरी लत लगना

व्यापार या व्यवसाय में मंदी आना

नौकरी से निकाला जाना

अगर आपको भी इस तरह के संकेत मिल रहे हैं तो शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की विधि-विधान से पूजा करें। रविवार को छोड़कर आप किसी दिन भी पीपल के पेड़ की पूजा कर सकते हैं।

पीपल की पेड की पूजा करने के लिए सूर्योदय से पहले जागें और नित्यक्रिया करने के बाद स्नान कर लें और सफेद वस्त्र धारण कर किसी ऐसे स्थान पर जाएं, जहां पीपल का पेड़ हो। वहां पीपल की जड़ में गाय का दूध, तिल और चंदन मिलाकर पवित्र जल अर्पित करें और धूप दीप जलाकर इस मंत्र का जाप करें

मूलतो ब्रह्मारूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे
अग्रतः शिवरूपाय वृक्ष राजाय ते नमः
आयु: प्रजां धनं धान्यं सौभाग्यं सर्वसंपदम्
देहि देव महावृक्ष त्वामहं शरणं गत:

इस मंत्र का जप करने के पश्चात कपूर और लौंग जलाकर आरती करें, उसके बाद प्रसाद ग्रहण करें। पीपल के जड़ में अर्पित थोड़ा सा जल घर ले आयें और उसे घर में छिड़क दें। अगर आप इस तरह पीपल के पेड़ की पूजा करते हैं तो शनि के प्रकोप से मुक्ति मिल सकती है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code
%d bloggers like this: