मौत का नाम सुनते ही हर कोई डर जाता है। ये सच है कि कोई भी इंसान मरना नहीं चाहता, लेकिन मृत्यु एक अटल सत्य है, जिसे कोई भी झूठला नहीं सकता। कई हिंदू धर्म ग्रंथों में मौत से जुड़े संकेतों के बारे में बताया गया है। ऐसा ही एक एक ग्रंथ है शिवमहापुराण (shiva mahapuran)। इस ग्रंथ का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है।

भगवान शिव (Lord Shiva) ने शिवमहापुराण में देवी पार्वती (Goddess Parvati) को मनुष्यों की मृत्यु से संबंधित कई गुप्त संकेत बताए हैं। इन संकेतों को समझकर यह जाना जा सकता है कि किस व्यक्ति की मौत कितने समय में हो सकती है। वर्तमान समय सुनने में ये बातें भले ही अजीब लगे लेकिन इस ग्रंथ में मृत्यु के संकेतों के बारे में स्पष्ट रूप से जानकारी दी गई है। इस बार 1 मार्च को महाशिवरात्रि (Mahashivratri 2022) है। इस मौके पर हम आपको शिवमहापुराण में बताए इन संकेतों की जानकारी दे रहे हैं, जो इस प्रकार है…

1. अचानक किसी व्यक्ति का शरीर नीला या पीला पड़ जाए या उसके शरीर पर लाल निशान दिखाई दें तो उसकी मृत्यु 6 महीने में हो सकती है।


2. जिस व्यक्ति का मुंह, कान, आंख व जीभ ठीक से काम न करे, उसके जीवन के 6 महीने ही बचे हो सकते हैं।


3. यदि किसी व्यक्ति का गला और मुंह बार-बार सूखने लगे तो उसकी मृत्यु 6 महीने के अंदर संभव है।


4. जब किसी का बायां हाथ लगातार फड़कता रहे, तालू सूख जाए तो उसकी मृत्यु 1 महीने के अंदर हो सकती है।


5. जिसे चंद्रमा व सूर्य के आस-पास काला या लाल घेरा दिखाई देने लगे, उसकी मृत्यु 15 दिन के अंदर हो सकती है।


6. जिसे चंद्रमा व तारे ठीक से न दिखाई दें या काले दिखाई दें, उसकी मृत्यु 1 महीने में हो सकती है।


7. जिस व्यक्ति को अचानक नीली मक्खियां घेर लें, हो सकता है उसकी आयु लगभग 1 महीना ही बची हो।


8. जिस मनुष्य के सिर पर गिद्ध, कौआ या कबूतर आकर बैठ जाए, उसकी मृत्यु 1 महीने के अंदर हो सकती है।


9. जिसे पानी, तेल, घी या दर्पण में अपनी परछाई दिखाई न दे तो उसकी आयु 6 महीने ही बची हो सकती है।


10. जब किसी व्यक्ति को अपनी परछाई बिना सिर के दिखाई दे तो उसकी मृत्यु 6 महीने में हो सकती है।


11. जिसे आग की रोशनी ठीक से दिखाई न दे, चारों ओर अंधेरा दिखे, उसकी मृत्यु 6 महीने में हो सकती है।


12. जिसे ध्रुव तारा व सूर्य के दर्शन व हों, रात में इंद्रधनुष दिखाई दे, उसकी उम्र 6 महीने बाकी हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: