Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

कुंडली रिपोर्ट , शनि रिपोर्ट , करियर रिपोर्ट , आर्थिक रिपोर्ट जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे
❣️❣️ वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।❣️❣️ ज्योतिष: वेद चक्षु नमः शम्भवाय च मयोभवाय च नमः शंकराय च मयस्कराय च नमः शिवाय च शिव तराय च नमः।।>

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

January 28, 2023 06:55
Omasttro



ब्रह्माजी बोले-हें महाप्रज्ञ नारद! तपस्या की विधि बताकर जब वशिष्ठ जी चले गए, तब संध्या आसन लगाकर कठोर तप शुरू करने लगी | वशिष्ठ जी द्वारा बताए गए विधान एवं मंत्र द्वारा संध्या ने भगवान शिव की आराधना करनी आरम्भ कर दी | उसने अपना मन शिवभक्ति में लगा दिया और एकाग्र होकर तपस्या में मग्न हो गई | तपस्या करते-करते चार युग बीत गए | तब भगवान शिव प्रसन्न हुए और संध्या को अपने स्वरूप के दर्शन दिए, जिसका चिंतन संध्या द्वारा किया गया था | भगवान का मुख प्रसन्न था | उनके स्वरूप से शांति बरस रही थी | संध्या के मन में विचार आया कि मैं महादेव की स्तुति कैसे करू ? इसी सोच में संध्या ने नेत्र बंद कर लिए | भगवान शिव ने संध्या के ह्रदय में प्रवेश कर उसे दिव्य ज्ञान दिया | साथ ही दिव्य-वाणी और दिव्य-दृष्टि भी प्रदान की | संध्या ने प्रसन्न मन से भगवान शिव की स्तुति की |

संध्या बोली-हें निराकार! परमज्ञानी, लोकस्त्रष्टा, भगवान शिव, मैं आपको नमस्कार करती हूँ | जो शांत, निर्मल, निर्विकार और ज्ञान से स्रोत हैं | जो प्रकाश को प्रकाशित करते हैं, उन भगवान शिव को मैं प्रणाम करती हूँ | जिनका रूप अद्वितीय, शुद्ध, माया रहित, प्रकाशमान, सच्चिदानंदमय, नित्यानन्दमय, सत्य, ऐश्वर्य से युक्त तथा लक्ष्मी और सुख देने वाला हैं, उन परमपिता परमेश्वर को मेरा नमस्कार हैं | जो सत्वप्रधान, ध्यान योग्य, आत्मस्वरूप, सारभूत सबको पार लगाने वाला तथा परम पवित्र हैं, उन प्रभु को मेरा प्रणाम हैं | भगवान शिव आपका स्वरूप शुद्ध, मनोहर, रत्नमय, आभूषणों से अलंकृत एवं कपूर के समान हैं | आपके हाथों में डमरू, रुद्राक्ष और त्रिशूल शोभा पाते हैं | आपके इस दिव्य, चिन्मय, सगुण, साकार रूप को मैं नमस्कार करती हूँ | आकाश, पृथ्वी, दिशाएं, जल, तेज और काल सभी आपके रूप हैं | हें प्रभु! आप ही ब्रह्मा के रूप में जगत की सृष्टि, विष्णु रूप में संसार का पालन करते हैं | आप ही रूद्र रूप धरकर संहार करते हैं | जिनके चरणों से पृथ्वी तथा अन्य शरीर से सारी दिशाएं, सूर्य, चंद्रमा एवं अन्य देवता प्रकट हुए हैं, जिनकी नाभि से अंतरिक्ष का निर्माण हुआ हैं, वे ही सद्ब्रह्म तथा परब्रह्म हैं | आपसे ही सारे जगत की उत्पत्ति हुई हैं |जिनके स्वरूप और गुणों का वर्णन स्वयं ब्रह्मा, विष्णु भी नहीं कर सकते, भला उन त्रिलोकीनाथ भगवान शिव की स्तुति कैसे कर सकती हूँ ? मैं एक अज्ञानी और मुर्ख स्त्री हूँ | मैं किस तरह आपको पूजूं कि आप मुझ पर प्रसन्न हो | हें प्रभु! मैं बारम्बार आपको नमस्कार करती हूँ |

ब्रह्माजी बोले-नारद! संध्या द्वारा कहे गए वचनों से भगवान शिव बहुत प्रसन्न हुए | उसकी स्तुति ने उन्हें द्रवित कर दिया | भगवान शिव बोले-हें देवी! मैं तुम्हारी तपस्या से बहुत प्रसन्न हूँ | अतः तुम्हारी जो इच्छा हो वह वर मांगो | तुम्हारी इच्छा में अवश्य पूर्ण करूँगा | भगवान शिव के ये वचन सुनकर संध्या खुशी से उन्हें बार-बार प्रणाम करती हुए बोली-हें महेश्वर! यदि आप मुझ पर प्रसन्न होकर कोई वर देना चाहते हैं और यदि मैं अपने पूर्व पापों से शुद्ध हो गई हूँ तो हें महेश्वर! हें देवेश! आप मुझे वरदान दीजिए कि आकाश, पृथ्वी और किसी भी स्थान में रहने वाले जो भी प्राणी इस संसार में जन्म ले, वे जन्म लेते ही काम भाव से युक्त न हो जाए | हें प्रभु! मेरे पति भी सुह्रदय और मित्र के समान हो और अधिक कामी न हो | उनके अलावा जो भी मनुष्य मुझे सकाम भाव से देखे, पुरुषत्वहीन अर्थात नपुंसक हो जाए | हें प्रभु! मुझे ठ वरदान भी दीजिए कि मेरे समान विख्यात और परम तपस्विनी तीनो लोको में और कोई न हो |

निष्पाप संध्या के वरदान मांगने को सुनकर भगवान शिव बोले-हें देवी संध्या! तथास्तु! तुम जो चाहती हो, मैं तुम्हे प्रदान करता हूँ | प्राणियों के जीवन में अब चार अवस्थाएं होगी | पहली शैशव अवस्था, दूसरी कौमार्यावस्था, तीसरी यौवनावस्था और चौथी वृद्धावस्था | तीसरी अवस्था अर्थात यौवनावस्था में ही मनुष्य सकाम होगा | कही-कही दूसरी अवस्था के अंत में प्राणी सकाम हो जाते हैं | तुम्हारी तपस्या से प्रसन्न होकर ही मैंने यह मर्यादा निर्धारित की हैं | तुम परम सती होगी और तुम्हारे पति के अतिरिक्त जो भी मनुष्य तुम्हे सकाम भाव से देखेगा वह तुरंत पुरुषत्वहीन हो जाएगा | तुम्हारा पति महान तपस्वी होगा, जो कि सात कल्पों तक जीवित रहेगा | इस प्रकार मैंने तुम्हारे द्वारा मांगे गए दोनों वरदान तुम्हे प्रदान कर दिए हैं | अब मैं तुम्हे तुम्हारी प्रतिज्ञा को पूर्ण करने का साधन बताता हूँ | तुमने अग्नि में अपना शरीर त्यागने की प्रतिज्ञा की थी | मुनिवर मेधातिथि का एक यज्ञ चल रहा हैं, जो कि बारह वर्षों तक चलेगा | उसमे अग्नि बड़े जोरो से जल रही हैं | तुम उस अग्नि में अपना शरीर त्याग दो | चंद्रभागा नदी के तट पर ही तपस्वियों का आश्रम हैं, जहा महायज्ञ हो रहा हैं | तुम उसी अग्नि में प्रकट होकर मेधातिथि की पुत्री होगी | अपने मन में जिस पुरुष की इच्छा करके तुम शरीर त्यागोगी वही पुरुष तुम्हे पति रूप में प्राप्त होगा | संध्या, जब तुम इस पर्वत पर तपस्या कर रही थी तब त्रेता युग में प्रजापति दक्ष की बहुत सी कन्याएं हुई | उनमे से सत्ताईस कन्याओं का विवाह उन्होंने चंद्रमा से कर दिया | चंद्रमा उन सबको छोडकर केवल रोहिणी से प्रेम करते थे | तब दक्ष ने क्रोधित होकर उन्हें शाप दे दिया | चंद्रमा को शाप से मुक्त कराने के लिए उन्होंने चंद्रभागा नदी की रचना की | उसी समय मेधातिथि यहा उपस्थित हुए थे | उनके समान कोई तपस्वी न है, न होगा | उन्ही का ‘ज्योतिष्टोम’ नामक यज्ञ चल रहा है, जिसमे अग्निदेव प्रज्वलित है | तुम उसी आग में अपना शरीर डालकर पवित्र हो जाओ और अपनी प्रतिज्ञा पूरी करो |

इस प्रकार उपदेश देकर भगवान शिव वह से अंतर्धान हो गए |

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

आपका हार्दिक स्वागत करता है ,

ॐ एस्ट्रो से अभी जुड़े 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.
%d bloggers like this: