स्वाति नक्षत्र का फल

स्वाति नक्षत्र का चिह्न

वैदिक ज्योतिष के अनुसार स्वाति नक्षत्र का स्वामी राहु ग्रह है। यह तलवार या मूंगा की तरह दिखायी देता है। इस नक्षत्र के वाया और लिंग स्री है। यदि आप स्वाति नक्षत्र से संबंध रखते हैं, तो उससे जुड़ी अनेक जानकारियाँ जैसे व्यक्तित्व, शिक्षा, आय तथा पारिवारिक जीवन आदि यहाँ प्राप्त कर सकते हैं।

स्वाति नक्षत्र के जातक का व्यक्तित्व

आप परिश्रमी हैं और परिश्रम के बल पर सफलता हासिल करने का जज़्बा रखते हैं। अध्यात्म में आपकी गहरी रुचि है। आप कुशल कूटनीतिज्ञ हैं और राजनीति में आपका दिमाग़़ ख़ूब चलता है। राजनीति के दाँव-पेंचों को आप बख़ूबी समझते हैं, यही कारण है कि आप सदैव सतर्क और चौकन्ने रहते हैं। परिश्रम के साथ चतुराई का आप ख़ूब इस्तेमाल करते हैं और अपना काम निकालने में निपुण हैं। आपका स्वभाव अच्छा है इसलिए लोगों के साथ आपके सम्बन्ध अच्छे हैं। आपके स्वभाव और व्यवहार के कारण ही लोग आप पर विश्वास करते हैं। लोगों के प्रति अच्छी भावना के कारण ही लोगों से आपको पूर्ण सहयोग प्राप्त है और समाज में भी आपकी छवि अच्छी है। आपके दिल में दूसरों के प्रति दया और सहानुभूति है। दबाव में रहकर काम करना आपको नहीं आता क्योंकि आपकी विचारधारा स्वतंत्र है। इसलिए आप जो भी कार्य करते हैं उसमें पूर्ण स्वतंत्रता चाहते हैं। बात चाहे नौकरी की हो या व्यवसाय की – दोनो में आपको सफलता मिलेगी, इसलिए नौकरी, व्यवसाय या आजीविका की दृष्टि से आपकी स्थिति काफ़ी अच्छी है। आप महत्वाकांक्षी हैं इसलिए सदैव ऊँचाइयों पर पहुँचने को तत्पर रहते हैं। हर कार्य की आप लम्बी योजना बनाते हैं और अपने सभी कार्य बहुत इत्मिनान से करते हैं। लक्ष्य प्राप्त करने की आपको कभी जल्दबाज़ी नहीं होती है। आपके चेहरे पर हमेशा मुस्कान बनी रहती हैं। सामाजिक परंपरा व प्रथा का आप निष्ठापूर्वक पालन करते हैं। आपके विचार शांतिप्रिय, अटल और स्वच्छ हैं इसलिए आपको अपने काम की आलोचना पसंद नहीं है। आप न तो दूसरों के काम में दख़ल देते हैं और न यह चाहते हैं कि कोई दूसरा आपके काम में दख़लअंदाज़ी करे। आपको अच्छे भविष्य के लिए अपना दिमाग़ी संतुलन बनाकर रखना चाहिए और क्रोध करने से बचना चाहिए। नए विचारों का आप स्वागत करते हैं तथा नयी बातें सीखने के लिए तैयार रहते हैं। आप असंभव को संभव बनाने के प्रयास में लगे रहते हैं। दूसरों की सहायता के लिए आप हमेशा तत्पर रहते हैं, बशर्ते आपकी स्वतंत्रता पर कोई फ़र्क़ न पड़ता हो। बिना किसी भेदभाव के आप हर किसी को आदर देते हैं तथा ज़रुरतमंदो के आप सबसे अच्छे मित्र और बुरे लोगों के सबसे बड़े शत्रु हैं। अगर आपके मन में किसी के प्रति नफ़रत घर कर जाए तो वह स्थायी रहती है। संभव है कि आपका बचपन भी कुछ समस्याग्रस्त रहा हो। वैसे तो आप समझदार और कठोर परिश्रमी हैं, फिर भी यदि संभलकर न चलें तो आर्थिक समस्याओं से घिरे रह सकते हैं। सही क़दम उठाकर परिस्थितियों पर नियंत्रण पाना आपको सीखना चाहिए।

शिक्षा और आय

दुकानदार-व्यापारी, पहलवान, खिलाड़ी, सरकारी सेवा, परिवहन सेवा, सौंदर्य प्रसाधन, समाचार वाचन, मंच संचालन, कंप्यूटर व सॉफ़्टवेयर से जुड़े कार्य, शिक्षक- प्रशिक्षक, मनोविज्ञान से जुड़े क्षेत्र, वकील-न्यायाधीश, खोजी-अन्वेषक, विमान उद्योग व ग्लाइडिंग आदि कार्य करके सफल हो सकते हैं।

पारिवारिक जीवन

वैवाहिक जीवन में किसी भी प्रकार की बहस या विवाद से आपको बचना चाहिए, वरना दाम्पत्य-जीवन कष्टकारी बन सकता है। आप जितनी मधुरता पारिवारिक जीवन में रखेंगे उतना बेहतर होगा। आप समाज में उच्च प्रतिष्ठा व सम्मान पाने के इच्छुक रहेंगे, जिसकी वजह से आपका ध्यान परिवार की तरफ़ कम हो सकता है; अतः संतुलन बनाए रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: