Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

News & Update

ॐ नमस्ते गणपतये ॥ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः । स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः । स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः । स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ हमारे यहां पर वैदिक ज्योतिष के आधार पर कुंडली , राज योग , वर्ष पत्रिका , वार्षिक कुंडली , शनि रिपोर्ट , राशिफल , प्रश्न पूछें , आर्थिक भविष्यफल , वैवाहिक रिपोर्ट , नाम परिवर्तन पर ज्योतिषीय सुझाव , करियर रिपोर्ट , वास्तु , महामृत्‍युंजय पूजा , शनि ग्रह शांति पूजा , शनि ग्रह शांति पूजा , केतु ग्रह शांति पूजा , कालसर्प दोष पूजा , नवग्रह पूजा , गुरु ग्रह शांति पूजा , शुक्र ग्रह शांति पूजा , सूर्य ग्रह शांति पूजा , पितृ दोष निवारण पूजा , चंद्र ग्रह शांति पूजा , सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का पाठ , प्रेत बाधा निवारण पूजा , गंडमूल दोष निवारण पूजा , बुध ग्रह शांति पूजा , मंगल दोष (मांगलिक दोष) निवारण पूजा , केमद्रुम दोष निवारण पूजा , सूर्य ग्रहण दोष निवारण पूजा , चंद्र ग्रहण दोष निवारण पूजा , महालक्ष्मी पूजा , शुभ लाभ पूजा , गृह-कलेश शांति पूजा , चांडाल दोष निवारण पूजा , नारायण बलि पूजन , अंगारक दोष निवारण पूजा , अष्‍ट लक्ष्‍मी पूजा , कष्ट निवारण पूजा , महा विष्णु पूजन , नाग दोष निवारण पूजा , सत्यनारायण पूजा , दुर्गा सप्तशती चंडी पाठ (एक दिन) जैसी रिपोर्ट पाए और घर बैठे जाने अपना भाग्य अभी आर्डर करे

Omasttro.in

tarot anita
heler
kundli41
2023
Pt.durgesh
previous arrow
next arrow
Omasttro
हिन्दू धर्म में गुप्त नवरात्रि का विशेष महत्व बताया गया है और इस दौरान किए गए कुछ उपाय आपके घर को समृद्धि से पूर्ण बना सकते हैं। 

Gupt Navratri 2022: vedic astrology   हिंदू धर्म में मां दुर्गा के नौ रूपों को श्रद्धा पूर्वक पूजा जाता है। माता के पूजन के लिए कुछ विशेष दिन हैं जिनमें से नवरात्रि प्रमुख है। वैसे तो नवरात्रि तिथि साल में दो बार होती है लेकिन कुल मिलाकर चार नवरात्रि तिथियां हैं जिनमें से दो गुप्त नवरात्रि तिथियां होती हैं।

हालांकि गुप्त नवरात्रि के बारे में लोग कम ही जानते हैं लेकिन इन नौ दिनों में भी माता दुर्गा पूजन का विशेष विधान है और ऐसी मान्यता है कि इन दिनों में भी जो माता का पूजन भक्ति भाव से करता है उसे समस्त मनोकामनाओं से पूर्ति होने के साथ पापों से मुक्ति भी मिलती है।

गुप्त नवरात्रि आषाढ़ के महीने में पड़ती है और इसमें माता दुर्गा की भक्तों पर विशेष कृपा होती है। इस साल गुप्त नवरात्रि का आरंभ   30 जून से हो गया है और ये 9 जुलाई 2022 तक चलेगी। इस दौरान आप कुछ ख़ास उपाय माता दुर्गा को प्रसन्न करने के  लिए आजमा सकते हैं जिससे घर में सुख समृद्धि बनी रहे और घर में धन की वर्षा हो। 

माता दुर्गा को लाल फूल चढ़ाएं vedic astrology 

 

offering red flower to durga mata

 

 

 

 

 

 

 

 

गुप्त नवरात्रि में यदि आप माता दुर्गा को नौ दिनों तक लाल फूल अर्पित करेंगी तो आपके सभी बिगड़े काम बन जाएंगे। ऐसा माना जाता है कि लाल रंग माता दुर्गा का सर्वप्रिय रंग है। इसलिए सुहागिन स्त्रियां माता दुर्गा के रूप मां गौरी को श्रृंगार का सामान चढ़ा सकती हैं और नौ दिनों तक लाल फूल के साथ माता को लाल सिंदूर लगाकर प्रसन्न कर सकती हैं। 

घी का दीपक जलाएं vedic astrology 

यदि आप नौकरी में उन्नति और अपने करियर में सफलता चाहते हैं तो नौ दिनों तक माता का पूजन श्रद्धा भाव से करने के साथ माता के सामने घी का दीपक जलाएं। यदि आप अखंड ज्योत नहीं जला सकते हैं तो नियमित संध्या काल में दीपक जलाकर माता की आरती लौंग और कपूर के साथ करें।  vedic astrology 

माता लक्ष्मी को कमल का फूल चढ़ाएं vedic astrology 

यदि आप गुप्त नवरात्रि के दौरान माता लक्ष्मी को कमल का फूल चढ़ाएंगे और खीर का भोग लगाएंगे तो यह उपाय आपके घर में धन लाभ का मार्ग खोलेगा। ऐसा माना जाता है कि माता लक्ष्मी को कमल का फूल सर्वप्रिय है। 

करियर में तरक्की: vedic astrology  अगर आप करियर में सफलता और तरक्की पाना चाहते हैं तो गुप्त नवरात्रि के दौरान किया गया यह उपाय आपके लिए लाभदायक साबित होगा. इसके लिए आपको नवरात्रि के दौरान 9 दिनों तक रोजाना मां दुर्गा के समक्ष घी का दीपक जलाएं

धन-दौलत की प्राप्ति: vedic astrology   धन-दौलत पाने की इच्छा हर किसी को होती है लेकिन बहुत मेहनत करने के बाद धन की कमी हो रही है तो गुप्त नवरात्रि में मां लक्ष्मी की फोटो लेकर आएं और उसे मंदिर में स्थापित करें. ध्यान रखें कि फोटो में मां लक्ष्मी के गले में फूलों की माला होनी चाहिए. इसके अलावा मां लक्ष्मी का कमल का फूल अर्पित करें. इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर आपके घर में वास करेंगी.

बीमारी से मिलेगा छुटकारा: vedic astrology   यदि आप या आपको कोई परिचित किसी बीमारी से जूझ रहा है तो गुप्त नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा को लाल रंग पुष्प अर्पित करने से लाभ मिलेगा. पुष्प अर्पित करते समय ‘ऊं क्रीं कालिकायै नम:’ मंत्र का जाप अवश्य करें.

 

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Join Omasttro
Scan the code
%d bloggers like this: