सनत्कुमार – व्यास संवाद 

सूत जी कहते है – हें मुनियों ! इस साधन का महात्म्य बताते समय मै एक प्राचीन वृत्तान्त का वर्णन करूँगा , जिसे आप ध्यान पूर्वक सुने |

बहुत समय पहले की बात हें , पराशर मुनि के पुत्र मेरे गुरु व्यासदेव जी सरस्वती नदी के तट पर तपस्या कर रहे थे | एक दिन सूर्य के समान तेजस्वी विमान से यात्रा करते हुए भगवान सनत्कुमार वहा पहुचे | मेरे गुरु ध्यान में मग्न थे | जागने पर अपने सामने संतकुमार जी को देखकर वे बड़ी तेजी से उठे और उनके चरणों का स्पर्श कर उन्हें अर्घ्य देकर योग्य आसन पर विराजमान किया | प्रसन्न होकर सनत्कुमार जी गंभीर वाणी में बोले – मुनि तुम सत्य का चिंतन करो | सत्य तत्व का चिंतन ही श्री प्राप्ति का मार्ग है | इसी से कल्याण का मार्ग प्रशस्त होता है | यही कल्याणकारी हे |  यह जब जीवन में आता है , तो सब सुंदर हो जाता है | सत्य का अर्थ है – सदैव रहने वाला | इस काल का कोई प्रभाव नहीं पड़ता | यह सदा एक सामान रहता है |

 

सनत्कुमार जी ने महर्षि व्यास को आगे समझाते हुए कहा , महर्षे ! सत्य पदार्थ भगवान शिव ही हे | भगवान शंकर का श्रवण , कीर्तन और मनन ही उन्हें प्राप्त करने के सर्वश्रेष्ठ साधन है | पूर्वकाल में मै दूसरे अनेकानेक साधनों के भ्रम में पड़ा घूमता हुआ तपस्या करने मंदराचल पर जा पंहुचा | कुछ समय बाद महेश्वर शिव की आज्ञा से सबके साक्षी तथा शिवगणों के स्वामी नंदिकेश्वर वहा आए और स्नेहपूर्वक मुक्ति का साधन बताते हुए बोले – भगवान शंकर का श्रवण , कीर्तन , मनन ही मुक्ति का स्रोत  हे | यह बात मुझे स्वयम  देवाधिदेव भगवान शिव ने बताई हें | अतः तुम इन्ही साधनो का अनुष्ठान करो |

 

व्यास जी से ऐसा कहकर अनुगामियो सहित सनत्कुमार ब्रह्मधाम को चले गए | इस प्रकार इस उत्तम वृतांत का संक्षेप में  मेंने वर्णन किया है |

ऋषि बोले – सूत जी ! आपने श्रवण , कीर्तन , मनन को मुक्ति का उपाय बताया है , किन्तु जो मनुष्य इस तीनो साधनों में असमर्थ हो , वह मनुष्य कैसे मुक्त हो सकता है ? किस कर्म के द्वारा बिना यत्न के भी मोक्ष मिल सकता है ?

|| शिव पुराण ||

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

जयन्ती मङ्गला काली भद्रकाली कपालिनी। 
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु ते।।
 
ॐ एस्ट्रो के सभी पाठको को
शारदीय नवरात्रि और विजयादशमी
की हार्दिक शुभकामनाये ||

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो

आपका हार्दिक स्वागत करता है ,

ॐ एस्ट्रो से अभी जुड़े 

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Om Asttro / ॐ एस्ट्रो will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.
%d bloggers like this: