By :- Healer Barkha Pandey

Email -: Barkhapandeyastro@gmail.com

 

 

योग में बार-बार चर्चा होती है प्राणशक्ति के बारे में। आखिर यह प्राणशक्ति है क्या ?

प्राणशक्ति वो शक्ति है जो हमें ज़िंदा रखे हुए है। जब कोई भी व्यक्ति या जीव मरता है तो प्राणशक्ति रुपी संपर्क ही टूट जाता है। नहीं तो रेस्पिरेटरी सिस्टम भी रहता है ऑक्सीजन भी रहती है, परन्तु इंसान फिर भी मर जाता है। तो इसी प्राणशक्ति का सोर्स से शरीर ले संचार करने की काला को हीलिंग कहा जाता है ।
आधुनिक हो या पौराणिक युग दोनों मे ही इस पद्धति के द्वारा इलाज किया जाता रहा है। हमारे देश में भी हीलिंग करने के लिए बहुत सारे संस्था खोले जा रहे है। हीलिंग के द्वारा गंभीर से गंभीर रोगों का इलाज किया जाता है। हीलिंग किसी पर भी की जा सकती है, जैसे :- मनुष्य, पशु -पक्षी, पौधों पर

हीलिंग तीन प्रकार से की जाती है:-
1. अंतरिक हीलिंग
2. एक्सटर्नल हीलिंग
3. मत्रिका हीलिंग

1. आंतरिक हीलिंग:-
– जिसमे शरीर के अंदर ही ऊर्जा के प्रभाव को संचालित करते है। जिसमे एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को ऊर्जा भेजते है।

2. एक्सटर्नल हीलिंग :-
– प्राणशक्ति प्रचुर मात्रा मे हमारे चारो तरफ और इस विश्व मे उपलब्ध है उसे विश्व से हमारे शरीर मे प्रवाहित करती है।

3. मत्रिका healing:-
-इस प्रकार ही हीलिंग मे जिस व्यक्ति को जो कुछ भी समस्या है उसे डायरेक्ट मत्रिका से कनेक्ट कर दिया जाता है। यानि की सब कुछ भगवान (मत्रिका) को सौंप दी जाती है।

Healer Barkha Pandey

Email -: Barkhapandeyastro@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: